ल्यूक रॉन्की,  © Getty Images
ल्यूक रॉन्की, © Getty Images

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह चुके न्यूजीलैंड के विकेटकीपर ल्यूक रॉन्की के बल्ले का जादू बरकरार है। रॉन्की ने सुपर स्मैश टी20 कप में ऑकलैंड की ओर से खेलते हुए महज 45 गेंदों में शतक ठोक दिया। ये न्यूजीलैंड के टी20 इतिहास का दूसरा सबसे तेज टी20 शतक है। न्यूजीलैंड की ओर से सबसे तेज टी20 शतक टिम सिफर्ट ने लगाया है, जिन्होंने 8 दिन पहले 40 गेंदों में सैकड़ा लगा डाला था। वेलिंग्टन के लिए इस सीजन में पहला मैच खेल रहे रॉन्की ने भी धमाकेदार पारी खेलते हुए शतक ठोक दिया। अपनी शतकीय पारी में रॉन्की ने 7 छक्के और 9 चौके लगाए। उनके बल्ले से कुल 46 गेंद में 102 रन निकले और वो आखिर तक नाबाद रहे।

रॉन्की की इस जबर्दस्त पारी की बदौलत वेलिंग्टन की टीम ने 20 ओवर में 206 रनों का स्कोर खड़ा किया। हैरत की बात ये है कि इसके बावजूद वेलिंग्टन की टीम ऑकलैंड से मुकाबला गंवा बैठी। ऑकलैंड ने मैच की आखिरी गेंद पर इस रोमांचक मैच में 2 विकेट से जीत हासिल की। ऑकलैंड की ओर से मार्टिन गप्टिल ने 28, मार्क चैपमैन ने 64 और सैम कर्रन ने 50 रनों की पारी खेली। मगर जीत के असल हीरो रहे तरुण नेथुला, जिन्होंने आखिरी गेंद पर चौका लगाकर टीम को जीत दिलाई।

वीडियो- थर्ड अंपायर के फैसले पर भड़के एंटन देवसिच, LIVE मैच में दी गाली!
वीडियो- थर्ड अंपायर के फैसले पर भड़के एंटन देवसिच, LIVE मैच में दी गाली!

1 ओवर में चाहिए थे 12 रन

ऑकलैंड की टीम को जीत के लिए 6 गेंद में 12 रनों की दरकार थी। वेलिंग्टन की ओर से मैकपीक गेंदबाजी के लिए उतरे। पहली गेंद पर उन्होंने कोई रन नहीं दिया। दूसरी गेंद पर बल्लेबाज तेजा निदामनुरु ने चौका जड़ दिया। तीसरी गेंद पर निदामनुरु ने एक रन ले लिया। अब तरुण नेथुला स्ट्राइक पर आए और चौथी गेंद पर मैकपीक ने उन्हें छका दिया। इसके बाद आखिरी दो गेंदों पर ऑकलैंड को 7 रन बनाने थे लेकिन पांचवीं गेंद पर नेथुला ने चौका मार दिया। आखिरी गेंद पर वेलिंग्टन को 3 रन बचाने थे लेकिन आखिरी गेंद पर भी नेथुला ने चौका लगाकर अपनी टीम को जीत दिला दी।