टीम इंडिया  © IANS
टीम इंडिया © IANS

साल 2016 टीम इंडिया के लिए बेहतरीन गुजरा और इस साल टीम इंडिया ने अधिकतर टेस्ट मैच जीते और किसी में भी उसे हार का समान नहीं करना पड़ा। साथ ही इंग्लैंड को भारत ने पहली बार 4-0 से हराकर इतिहास रच दिया और अब टीम इंडिया टेस्ट रैंकिंग में 120 अंकों के साथ साल 2016 की नंबर एक टेस्ट टीम बनी हुई है। लेकिन इन सभी उपलब्धियों के बावजूद बीसीसीआई से उन्हें कोई बोनस या प्रोत्साहन राशि नहीं मिलेगी। इसकी मुख्य वजह बीसीसीआई और लोढ़ा समिति के बीच टकराव है। हाल ही में लोढ़ा समिति की सिफारिशों को लागू करने से बीसीसीआई ना- नुकुर कर रहा था जिससे रुष्ट होकर सुप्रीम कोर्ट ने आर्थिक मामलों व पैसों के बंटवारे को लेकर बीसीसीआई पर लगाम कसते हुए फैसला लिया था कि जब तक बोर्ड और सभी राज्य एसोसिएशन लोढ़ा कमिटी की सिफारिशों पर अमल नहीं करते तब तक ऐसे मामलों में वो कोई कदम आगे नहीं बढ़ा सकते। [ये भी पढ़ें: रविचंद्रन अश्विन को मिला ‘आईसीसी प्लेयर ऑफ द ईयर’ का खिताब]

ये हमेशा देखा गया है कि बीसीसीआई टीम इंडिया और अंडर- 19 टीम को अच्छे प्रदर्शन के लिए प्रोत्साहन राशि देती आई है। लेकिन इस बार ऐसा होना संभव नहीं दिखाई देता। गौरतलब है कि भारतीय अंडर- 19 टीम पहले से ही एशिया कप अंडर-19 के फाइनल में पहुंच गई है। 23 दिसंबर को टूर्नामेंट का फाइनल खेला जाएगा। जैसा कि बीसीसीआई लोढ़ा समिति के फेर में पड़ी है तो टीम इंडिया को तब तक अपने बोनस का इंतजार करना पड़ेगा जब तक यह मामला सुलझ नहीं जाता। आईसीसी कैश अवॉर्ड जो 1 अप्रैल को होता है वह ज्यादा दूर नहीं है तो ये टक्कर और भी दिलचस्प होगी।

जो टीम शीर्ष पर रहेगी उसे 1 मिलियन डॉलर राशि इनाम के रूप में दी जाएगी। दूसरे नंबर पर रहने वाली टीम को 5 लाख डॉलर दिए जाएंगे। वहीं तीसरे और चौथे नंबर की टीमों को क्रमशः 20 हजार और 15 हजार डॉलर दिए जाएंगे। एमआरएफ टायर्स आईसीसी टेस्ट रैंकिंग के लिए यह साल दिलचस्प रहा है। इस साल तीन टीमों ऑस्ट्रेलिया, भारत और पाकिस्तान ने नंबर एक स्थान पर जगह बनाई।