श्रीलंका टीम © AFP
श्रीलंका टीम © AFP

भारत के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में श्रीलंकाई खिलाड़ियों के मास्क पहनकर फील्डिंग करने की जमकर आलोचना हो रही है। हाल ही में भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने टीम पर तंज कसते हुए कहा कि अगर उन्हें वाकई तकलीफ हो रही थी तो उन्होंने बल्लेबाजी के दौरान मास्क क्यों नहीं पहने? गांगुली ने कहा, ‘जब श्रीलंकाई टीम बल्लेबाजी के लिए आई तो उनमें से किसी भी खिलाड़ी ने मास्क नहीं पहना था। यहां तक की अगर आप पवेलियन की तरफ देखते तो वहां भी खिलाड़ी बिना मास्क के ही बैठे थे।’

गांगुली ने आगे कहा, ‘विराट कोहली और टीम जानती थी कि मैच उनके हाथ में है और वो ये नहीं चाहती थे कि समय बेवजह खराब हो और इसी कारण उन्हें पहले ही पारी घोषित करनी पड़ी। मैच कई बार रोके जाने से भारतीय टीम और विराट कोहली की एकाग्रता भंग हो रही थी।’ आपको बता दें कि फिरोजशाह कोटला में खेले जा रहे टेस्ट मैच के दूसरे दिन का खेल लंच के बाद खराब हवा के कारण थोड़ी देर के लिए रोकना पड़ा। दरअसल श्रीलंका टीम के खिलाड़ी लाहिरू गमागे को मैदान में खराब हवा के कारण सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। इसके बाद श्रीलंका टीम के कप्तान दिनेश चांदीमल ने इसकी शिकायत मैदानी अंपायरों से की। अंपायरों ने इस शिकायत को गंभीरता से लिया और अन्य अधिकारियों से बातचीत करते हुए खेल को फौरन रोक दिया गया।

डेब्यू टेस्ट में सुनील एंब्रिस के नाम दर्ज हुए 2 बड़े रिकॉर्ड
डेब्यू टेस्ट में सुनील एंब्रिस के नाम दर्ज हुए 2 बड़े रिकॉर्ड

इसके बाद श्रीलंका टीम के कई खिलाड़ियों ने मास्क पहन लिए। अंपायरों ने करीब 15 मिनट तक बातचीत करने के बाद फिर से खेल शुरू करवाया। अभी खेल शुरू ही हुआ था कि गमागे को फिर से तकलीफ होने लगी और मैच को एक बार फिर से रोकना पड़ा। इस बार गमागे मैदान के बाहर चले गए। पहली बार जब खेल रुका तो रविचंद्रन अश्विन आउट हुए और जब दूसरी बार खेल रुका तो विराट कोहली आउट हो गए। कोहली जिस तरह की बल्लेबाजी कर रहे थे उसे देखते हुए वह 300 जरूर लगा सकते थे लेकिन बार-बार खेल रुकने से उनका ध्यान बंट गया और वह 243 रन बनाकर आउट हो गए।