Team India have fielders like Virat Kohli, Ravindra Jadeja who create pressure on batsmen, says R Shridhar
रविंद्र जडेजा (Twitter)

गेंदबाजी में वो खुद को मैच विजेता साबित कर चुके हैं लेकिन फील्डिंग कोच आर श्रीधर के अनुसार जसप्रीत बुमराह अपनी कड़ी मेहनत और समर्पण के कारण पिछले तीन सालों में अपनी फील्डिंग में काफी सुधार करने वाले खिलाड़ियों में शामिल हो गए हैं। बुमराह के ‘स्लिंग एक्शन’ को समझना दुनिया भर के बल्लेबाजों के लिए परेशानी का सबब रहा है लेकिन वो तेज फील्डर नहीं थे।

श्रीधर ने भारत और न्यूजीलैंड के बीच मैच बारिश की भेंट चढ़ जाने के बाद पत्रकारों से कहा, ‘‘जहां तक फील्डिंग का सवाल है तो बुमराह सबसे कड़ी मेहनत करने वाले खिलाड़ियों में से एक है। जब वो 2016 में टीम से जुड़े थे तब से लेकर अब तक उनकी फील्डिंग में काफी सुधार हुआ है हालांकि अब भी इस पर काम चल रहा है लेकिन उन्होंने बहुत सुधार किया है।’’

कोच से बढ़कर अच्छे दोस्त थे जॉन राइट: सौरव गांगुली

उन्होंने कहा कि अपने खेल में सुधार करने की प्रतिबद्धता के कारण ही गुजरात का ये तेज गेंदबाज ये बदलाव कर पाया।श्रीधर ने कहा, ‘‘फिटनेस के बढ़ते स्तर के साथ खिलाड़ियों की मानसिकता और फिर हम उसमें फील्डिंग के तकनीकी पहलुओं तथा जागरूकता और उम्मीदों को जोड़ देते हैं। इसलिए इन सभी के जोड़ से निश्चित तौर पर उन्हें क्षेत्ररक्षण स्तर में सुधार करने में मदद मिली।’’

श्रीधर ने कहा कि बुमराह, केदार जाधव और युजवेंद्र चहल जैसे कुछ खिलाड़ी नैसर्गिक एथलीट नहीं हैं लेकिन वो अपनी फिटनेस पर कड़ी मेहनत करते हैं और अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुकूल स्तर हासिल करते हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि निजी स्तर पर वो भारतीय टीम के संपूर्ण फील्डिंग स्तर से बहुत खुश है।

ENG vs WI Dream11 Prediction: इंग्लैंड-वेस्टइंडीज मुकाबले में इन खिलाड़ियों पर रहेगी नजर

उन्होंने कहा, ‘‘निजी तौर पर मैं फील्डिंग से बहुत खुश हूं। हमारे पास रोहित शर्मा के रूप में स्लिप में एक अच्छा फील्डर है। हमारे पास विराट कोहली और रविंद्र जडेजा जैसे खिलाड़ी हैं जो कि बेहतरीन फील्डिंग हैं। वो किसी भी बल्लेबाज को खौफ पैदा कर सकते हैं और वो 30 गज के घेरे में ही रहते हैं।’’

श्रीधर ने कहा, ‘‘इसके अलावा हमारे पास हार्दिक पांड्या जैसा खिलाड़ी है जो कि जरूरत पड़ने पर आपको वास्तव में मदद पहुंचा सकता है। हमारे पास कैच लेने वाले अच्छे क्षेत्ररक्षक हैं।’’