Team india head coach Rahul dravid reaction on Jasprit Bumrah injury
Rahul dravid Jasprit bumrah

गुवाहाटी. तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के चोटिल होने के कारण टी20 विश्व कप में खेलना संदिग्ध लग रहा है. बुमराह की चोट पर एक दिन पहले बीसीसीआई चीफ सौरव गांगुली ने अपनी प्रतिक्रिया दी थी, अब टीम इंडिया के हेड कोच ने इस पर जवाब दिया था. राहुल द्रविड़ ने शनिवार को कहा कि वह इस क्रिकेटर की ‘मेडिकल रिपोर्ट’ की गहराई में नहीं जायेंगे बल्कि आस्ट्रेलिया में होने वाले इस टूर्नामेंट में उनकी उपलब्धता के संबंध में आधिकारिक पुष्टि का इंतजार करेंगे।

पीठ के निचले हिस्से में ‘स्ट्रेस फ्रेक्चर’ (एक हिस्से पर ज्यादा जोर पड़ने के कारण होने वाला फ्रेक्चर) के कारण बुमराह टी20 विश्व कप के लिये दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अंतिम तैयारी श्रृंखला से बाहर हो गये। द्रविड़ ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय की पूर्व संध्या पर पत्रकारों से कहा, ‘‘हम अगले कदम पर आधिकारिक पुष्टि का इंतजार कर रहे हैं। अभी तक वह आधिकारिक रूप से केवल इस (दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ) श्रृंखला से बाहर हुए हैं। अगले कुछ दिनों में क्या होगा, हम देखेंगे। ’’

आमतौर पर पीठ के ‘स्ट्रेस फ्रेक्चर’ के पूरी तरह ठीक होने में छह महीने के करीब समय लगता है लेकिन द्रविड़ ने कहा कि उन्हें अब भी उम्मीद है। द्रविड़ ने कहा, ‘‘सच कहूं तो मैंने उनकी मेडिकल रिपोर्ट की गहराई में नहीं गया हूं, मैं विशेषज्ञों पर निर्भर करता हूं कि वे मुझे बतायें कि यह क्या है। उन्होंने उसे इस श्रृंखला से बाहर किया है। लेकिन भविष्य में क्या होता है, हम आगे जानेंगे। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित रूप से जब तक उन्हें पूरी तरह से बाहर नहीं किया जाता और जब तक हमें उनके बाहर होने की आधिकारिक पुष्टि नहीं मिल जाती, तब तक हमें उम्मीद बनी रहेगी। बतौर टीम और जसप्रीत के लिये हम हमेशा सर्वश्रेष्ठ की उम्मीद करेंगे। ’’

बुमराह जुलाई से क्रिकेट से बाहर हैं और उन्होंने हाल में आस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू टी20 अंतरराष्ट्रीय श्रृंखला के दौरान वापसी की। लेकिन उन्हें फिर से रिहैब के लिये राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी जाना पड़ा। ‘थिंक टैंक’ उनके कार्यभार का प्रबंधन बहुत अच्छी तरह कर रहा है लेकिन इसके बावजूद उनका चोटिल होना बहस का विषय बन गया है।

बुमराह ने अपनी फ्रेंचाइजी मुंबई इंडियंस के लिये इंडियन प्रीमियर लीग में सभी 14 मैच खेले लेकिन इसके बाद से वह चार महीनों में केवल छह अंतरराष्ट्रीय मैचों में खेले। द्रविड़ ने कार्यभार प्रबंधन का बचाव करते हुए कहा, ‘‘काफी हद तक हम हर चीज का प्रबंधन कर लेते हैं। लेकिन हर चीज ‘परफेक्ट’ नहीं होती। ऐसा होता है, यह खेल का हिस्सा है। हम एकमात्र टीम नहीं है जो चोटों से जूझ रही है। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘पर अगर ये बड़े टूर्नामेंट के करीब होती हैं तो इससे आपकी योजना थोड़ी बिगड़ सकती है। चोट कम से कम लगें, इसके लिये हर कोई अच्छा प्रयास कर रहा है। ’’

इनपुट- पीटीआई भाषा