हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पिंक बॉल टेस्ट में टीम इंडिया को 36 रन पर ऑलआउट हो जाना तो आपको याद ही होगा. भारत ने अपने टेस्ट इतिहास का सबसे कम स्कोर एडिलेड के उस ऐतिहासिक टेस्ट में ही बनाया था. हालांकि 36 पर ऑलआउट होकर पिंक बॉल टेस्ट (Pink Ball Test) हारी टीम इंडिया ने इसके बाद ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में ऐसा छकाया कि भारत ने 2-1 से वह सीरीज अपने नाम कर ली. टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने एक बार इस 36 नंबर को याद किया है. शास्त्री ने एक ट्वीट कर बताया कि भारतीय क्रिकेट का इस 36 नंबर का खास नाता है.

एडिलेड में जब टीम इंडिया 36 रन पर ऑलआउट हुई थी तो मुख्य कोच रवि शास्त्री ने मैच खत्म होने के बाद ही खिलाड़ियों को प्रेरित करने के मकसद से यह कहा था कि वह इस 36 अंक को अपने दिलो-दिमाग में एक बैज की तरह छाप लें. यह नंबर अब उन्हें हमेशा बेहतर करने की प्रेरणा देगा. इसके बाद भारत ने ऑस्ट्रेलिया को और फिर इंग्लैंड को टेस्ट सीरीज में मात देकर वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में अपनी जगह पक्की की है.

को शास्त्री ने इंग्लैंड के खिलाफ शुक्रवार से शुरू हो रही 5 मैचों की टी20 सीरीज से पहले एक बार फिर इस 36 नंबर को याद किया है. शास्त्री ने अपने ट्वीट में बताया कि 36 नंबर से भारतीय क्रिकेट का खास नाता रहा है. उन्होंने अपने इस ट्वीट में लिखा, ‘हा… बहुत सारे 36 हैं, मेरे 6 छक्के, टीम ने एडिलेड में 36 किए. वनडे नंबर 36. गावस्कर के 36. युवराज सिंह के 6 छक्के. और भी बहुत हो सकते हैं.’

बता दें मुंबई के बल्लेबाज रवि शास्त्री ने 1984-85 में रणजी ट्रॉफी के एक मैच में बड़ौदा के खिलाफ एक ही ओवर में 6 छक्के जड़कर 36 रन बनाए थे. इससे पहले 1975 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड के खिलाफ सुनील गावस्कर ने 174 गेंदों पर नाबाद 36 रन बनाए थे. इस पारी को फैन्स आज भी बुरी यादों के रूप में याद करते हैं क्योंकि उस मैच में भारत 335 रन के लक्ष्य का पीछा कर रहा था और गावस्कर की यह टेस्ट मैच जैसी पारी आज भी उनकी समझ से बाहर है.

इसके अलावा साल 2007 में भारत के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह ने इंग्लैंड के ही खिलाफ टी20 वर्ल्ड कप में स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में 6 छक्के बरसाए थे. शास्त्री ने 36 के इस अंक को भारतीय क्रिकेट के साथ खास अंदाज में जोड़ा है.