टीम इंडिया © AFP
टीम इंडिया © AFP

बीसीसीआई कहने को तो दुनिया का सबसे अमीर बोर्ड है, उसकी टीम दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम है लेकिन एक सच ये भी है कि भारतीय टीम खराब जर्सियां पहनकर मैदान पर उतरती है। खबर है कि टीम इंडिया के कुछ खिलाड़ियों ने बीसीसीआई से खराब जर्सियों की शिकायत की है। टीम इंडिया की किट स्पॉन्सर नाइकी है और उसपर आरोप लग रहे हैं कि वो पिछले कुछ समय से टीम इंडिया को खराब क्वालिटी की किट दे रही है।

टीम इंडिया के खिलाड़ियों की शिकायत के बात बीसीसीआई भी नाइकी से नाराज है। बीसीसीआई के दो बड़े अधिकारियों राहुल दौहरी और रत्नाकर शेट्टी ने प्रशासकों की समिति के सामने इस मुद्दे को रखा है। प्रशासकों की समिति के अध्यक्ष विनोद राय ने इस पर चिंता भी जताई है। बीसीसीआई के चीफ एक्जीक्यूटिव अफसर राहुल जौहरी ने इंडियन एक्सप्रेस को कहा, प्रशासकों की समिति के साथ हुई बैठक में इस मुद्दे को उठाया गया था। सीओए ने कहा था कि टीम इंडिया को खराब किट नहीं मिलनी चाहिए। हम जल्द ही नाइकी के साथ बैठक करेंगे और इस मुद्दे को उठाएंगे। हालांकि इस मुद्दे पर नाइकी इंडिया कम्युनिकेशंस की हेड कीर्तना रामाकृष्णन ने चुप्पी साधी हुई है। हर सीरीज से पहले भारतीय खिलाड़ियों के लिए रैंडम फिटनेस टेस्ट हुआ जरूरी

आपको बता दें नाइकी टीम इंडिया के साथ 2006 से जुड़ी हुई है। 2016 में नाइकी ने भारतीय टीम के साथ जुड़े रहने के लिए 370 करोड़ रु. दिए और उसका करार 2020 तक है। हर मैच के लिए नाइकी कंपनी 87 लाख 34 हजार रु. देती है। इस अमेरिकन कंपनी की पहले कभी शिकायत नहीं आई लेकिन टीम इंडिया को खराब किट देने की खबर वाकई हैरान करने वाली है।