team india to play intra squad practice match at durhum says ecb
भारतीय क्रिकेट टीम @BCCITwitter

इंग्लैंड के खिलाफ 4 अगस्त से शुरू होने वाली 5 टेस्ट मैचों की सीरीज से पहले टीम इंडिया डरहम के रिवरसाइड मैदान पर आपस में दो प्रैक्टिस मैच खेलेगी. भारतीय टीम करीब साढ़े 3 महीने लंबे इंग्लैंड दौरे पर है. लेकिन इस दौरान उसे इंग्लैंड की काउंटी टीमों के खिलाफ कोई भी फर्स्ट क्लास मैच प्रैक्टिस के लिए नहीं मिलेंगे. टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने टेस्ट सीरीज से पहले कोई भी प्रैक्टिस मैच टीम को नहीं मिलने से नाराजगी जताई है.

इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) के प्रवक्ता ने शुक्रवार को पीटीआई से कहा, ‘कोविड-19 प्रोटोकॉल के अनुसार वे अगस्त में पहले टेस्ट से पहले अपने खिलाड़ियों की दो टीमें बनाकर चार दिवसीय दो मैच खेलेंगे.’ भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) ने ईसीबी से कुछ अभ्यास मैच कराने का अनुरोध किया था लेकिन कोविड-19 हालात के कारण इस तरह की योजना को पूरा करना मुश्किल होगा.

यह पूछने पर कि काउंटी टीमों के खिलाफ कोई मैच आयोजित करने की संभावना है तो प्रवक्ता ने कहा, ‘नहीं.’ इंग्लैंड में विभिन्न काउंटी टीमों के खिलाड़ियों का नियमित रूप से कोविड-19 परीक्षण किया जा रहा है लेकिन उन्हें किसी बायो-बबल में नहीं रखा हुआ है. भारतीय टीम 14 जुलाई को लंदन में इकट्ठा होगी और डरहम रवाना होगी, जिसके बाद फिर से बायो-बबल में रहेगी.

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा, ‘इंग्लैंड में घरेलू खिलाड़ी बायो-बबल में नहीं हैं, यह निश्चितरूप से एक मुद्दा है. इसलिए डरहम में मैच टीम के खिलाड़ियों को दो टीमों विभाजित करके ही खेले जाएंगे.’ भारतीय टीम इस समय 24 खिलाड़ियों (20 आधिकारिक टीम और चार रिजर्व) के साथ है, जिससे वह टीम के खिलाड़ियों की दो टीम बनाकर खेल सकती है.

हालांकि महान खिलाड़ी जैसे सुनील गावस्कर ने इस पर सवाल उठाए और कहा कि इस तरह के मैचों से टीम किस तरह से तैयारी कर सकती है. बीते समय में दौरा करने वाली टीमें काउंटी टीमों के साथ कई प्रथम श्रेणी मैच खेलती थी.

टीम के अंदर दो टीमें बनाकर खेले जाने वाले मैचों में एक खिलाड़ी अगर जल्दी आउट हो जाता है तो वह फिर से बल्लेबाजी कर सकता है लेकिन एक उचित प्रथम श्रेणी मैच में ऐसा नहीं हो सकता.

मुख्य चयनकर्ता चेतन शर्मा और एक अन्य सीनियर चयनकर्ता सुनील जोशी कड़े पृथकवास नियमों के रूकावट बनने के कारण पांच मैचों की टेस्ट श्रृंखला के लिये इंग्लैंड नहीं जा रहे. समझा जा सकता है कि भारत ‘लाल सूची’ वाले देशों में शामिल है जहां से ब्रिटेन के लिये कोई सीधी उड़ान नहीं है.