Tendulkar to Prithvi Shaw : Ask them to talk to me if anyone tells you to change grip
Prithvi-Shaw with Sachin © IANS and Getty Images

दिग्‍गज बल्‍लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंडर-19 विश्‍व कप विजेता टीम के कप्‍तान पृथ्‍वी शॉ की प्रतिभा को जल्‍द ही पहचान लिया था। तभी तो इंटरनेशनल क्रिकेट में 100 शतक पूरा कर चुके मास्‍टर ब्‍लास्‍टर ने 8 साल की उम्र में पृथ्‍वी को वो सलाह दी जिसकी बदौलत आज ये युवा खिलाड़ी नई उंचाइयों को छू रहा है।

तेंदुलकर अपनी ऐप ’100 एमबी’ पर कहा, ‘ मैंने उन्‍हें कहा था कि भविष्य में उनके कोच उन्‍हें जितने की निर्देश दें वह अपनी ग्रिप या स्टांस नहीं बदले। अगर कोई उन्‍हें ऐसा करने के लिए कहे तो उसे कहना कि वह मेरे से बात करे। कोचिंग देना अच्छा होता है लेकिन किसी खिलाड़ी में अत्यधिक बदलाव करना नहीं।’

इस पूर्व महान बल्लेबाज ने कहा, ‘ यह बेहद महत्वपूर्ण है कि जब आप ऐसे विशेष खिलाड़ी को देखें तो कुछ बदलाव नहीं करें। यह भगवान का तोहफा है।’

पृथ्वी को इंग्लैंड के खिलाफ अंतिम दो टेस्ट के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया है और तेंदुलकर को खुशी है कि उन्होंने पहली बार आठ साल की उम्र में उन्‍हें बल्लेबाजी करते देखकर उनके अंदर की प्रतिभा को भांप लिया था।

‘तब मेरे दोस्‍त ने पृथ्‍वी को खेलते हुए देखने को कहा था’

तेंदुलकर ने कहा, ‘लगभग 10 साल पहले मेरे एक मित्र ने मुझे युवा पृथ्वी को खेलते हुए देखने को कहा। उसने मुझे कहा कि मैं उसके खेल का आकलन करूं और उसे कुछ सलाह दूं। मैंने उसके साथ सत्र में हिस्सा लिया और खेल में सुधार के लिए कुछ चीजें बताई।’

पृथ्वी को पहली बार खेलते हुए देखने के बाद तेंदुलकर ने अपने मित्र से कहा था, ‘ तुम देख रहे हो? यह भविष्य का भारतीय खिलाड़ी है।’