The Ashes 19, ENG vs AUS: Jofra Archer blow brought back memories of Phil Hughes tragedy; Says Steve Smith
Steve Smith @twitter

ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव स्मिथ ने कहा है कि एशेज सीरीज के दूसरे टेस्ट में जब जोफ्रा आर्चर की बाउंसर उनकी गर्दन पर लगी तब उन्हें अपने पूर्व साथी खिलाड़ी दिवंगत फिल ह्यूज की याद आ गई थी। ह्यूज की घरेलू मैच में सिर पर गेंद लगने के कारण मौत हो गई थी।

पढ़ें: द्रविड़ की जगह सितांशु कोटक और पारस महाम्ब्रे होंगे इंडिया ए और अंडर-19 टीम के कोच

न्यूज डॉट कॉम डॉट एयू ने स्मिथ के हवाले से लिखा, ‘मेरे दिमाग में कुछ चीजें चल रही थीं। खासकर जब मुझे गेंद लगी तो मेरे दिमाग में अतीत छा गया था। आप समझ गए होंगे मेरा क्या मतलब है.. कुछ साल पहले की बात याद आ गई थी।’

इस बात से स्मिथ का मतलब ह्यूज के सिर में लगी गेंद वाले हादसे से था जिसमें ह्यूज अपनी जान गंवा बैठे थे। 2014 में ऑस्ट्रेलिया के घरेलू टूर्नामेंट शेफील्ड शील्ड में न्यूज साउथ वेल्स और साउथ ऑस्ट्रेलिया के बीच हुए मैच में यह हादसा हुआ था।

पूर्व कप्तान ने कहा, ‘यह शायद पहली चीज थी जो मेरे दिमाग में आई थी। इसके बाद मैंने सोचा कि मैं ठीक हूं।’

लॉर्ड्स में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन स्मिथ जब 80 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे, तब इंग्लैंड के आर्चर की गेंद स्मिथ के कान के नीचे गर्दन पर लगी थी और वह मैदान पर गिर पड़े थे। कुछ देर के लिए वह बाहर भी गए थे। जब वह वापस आए तो अपने खाते में उन्होंने 12 रन का इजाफा किया लेकिन वे शतक पूरा नहीं कर पाए और 92 रन पर आउट हो गए।

पढ़ें: ‘स्मिथ की वापसी से टीम मैनेजमेंट को प्लेइंग इलेवन को लेकर करनी पड़ेगी माथापच्ची’

स्मिथ ने कहा, ‘थोड़ा दुखी हुआ था लेकिन बाकी पूरे दिन मैं ठीक रहा। मैं अच्छा महसूस कर रहा था और मैंने अपने सभी टेस्ट पास कर लिए थे। मैं बल्लेबाजी भी करने गया था लेकिन देर शाम को मुझे कुछ हुआ।’

दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने बताया, ‘जब डॉक्टर ने मुझसे पूछा कि मुझे कैसा महसूस हो रहा है तो मैंने कहा कि मुझे लग रहा है कि मैंने छह बीयर पी ली हैं। मुझे इस तरह की भावनाएं आ रही थीं और इन्हीं के साथ मैं कुछ दिनों तक रहा।’

स्मिथ ने हालांकि इस हादसे के बाद से स्टेमगार्ड पहनने का मन नहीं बनाया है।

उन्होंने कहा, ‘मैंने पहले स्टेमगार्ड पहने हैं और एक दिन पहले जब मैं नेट्स में बल्लेबाजी कर रहा था तब भी मैंने इनका उपयोग किया था। मुझे लगा कि मेरे दिल की धड़कन सीधे 30 से 40 प्रतिशत तक बढ़ गई। मुझे उन्हें पहनकर कुछ कसा हुआ महसूस होता है। मैं इसकी तुलना एमआरआई स्कैन मशीन में फंसने से कर सकता हूं।’