मिचेल जॉनसन © Getty Images
मिचेल जॉनसन © Getty Images

एशेज सीरीज के पहले मैच से ठीक पहले हर कोई इंग्लैंड को मिचेल जॉनसन का 2013-14 का स्पेल याद दिला रहा है और इंग्लैंड को वो स्पेल याद कराकर डराने की कोशिश की जा रही है। मैच से पहले कंगारू टीम के कप्तान स्टीवन स्मिथ ने भी कहा कि ऑस्ट्रेलिया की टीम में मिचेल स्टार्क और पैट कमिंस जैसे तेज गेंदबाज हैं और वो मिचेल जॉनसन से भी खतरनाक हैं। स्मिथ ने कहा, ‘मैंने नेट्स में दोनों तेज गेंदबाजों का सामना किया है और मुझे इनका सामना करने में घबराहट हुई।’ साफ है स्मिथ ने भी इशारों-इशारों में ये कहने की कोशिश की है कि इस बार टीम के पास एक नहीं बल्कि दो-दो जॉनसन हैं।

स्टार्क बरपाएंगे कहर: स्मिथ ने स्टार्क को भी जॉनसन जितना खतरनाक बताया। स्टार्क के आंकड़ों पर गौर करें तो उन्होंने 36 टेस्ट मैचों में 28.35 के औसत से 148 विकेट झटके हैं। स्टार्क का बेस्ट पारी में 50 रन देकर 6 विकेट रहा है। वहीं मैच में उनका बेस्ट 94 रन देकर 11 विकेट रहा है। स्टार्क अपने 150 विकेट से सिर्फ 2 विकेट की दूरी पर हैं और ऐसे में वो इस उपलब्धि को पहले ही टेस्ट में हासिल करने की कोशिश मनें होंगे। इसके अलावा इंग्लैंड के खिलाफ स्टार्क ने 8 मैचों में 31.24 के औसत से 29 विकेट झटके हैं। इंग्लैंड के खिलाफ स्टार्क का बेस्ट पारी में 111 रन देकर 6 विकेट रहा है।

पैट कमिंस की स्पीड बिगाड़ेगी इंग्लैंड का खेल: स्मिथ ने टीम का दूसरे जॉनसन पैट कमिंस को करार दिया है। कमिंस की बात करें तो उन्होंने अब तक अपने टेस्ट करियर में सिर्फ 5 मैच ही खेले हैं। पहले टेस्ट में धमाकेदार प्रदर्शन करने के बाद कमिंस चोटिल होने के कारण लंबे समय के लिए टीम से बाहर हो गए थे लेकिन अब वो फिर से धमाल मचाने के लिए तैयार नजर आ रहे हैं। कमिंस ने अब तक 5 मैचों में 25.38 के औसत से 21 विकेट झटके हैं। कमिंस का बेस्ट पारी में 79 रन देकर 6 और मैच में 117 रन देकर 7 विकेट रहा है। कमिंस को अब तक इंग्लैंड के खिलाफ खेलने का मौका नहीं मिला है और इस लिहाज से कमिंस इंग्लैंड के खिलाफ एशेज सीरीज में डेब्यू को यादगार बनाने का कोई मौका नहीं छोड़ेंगे।

2013-14 में जॉनसन बने थे इंग्लैंड के ‘काल’: अब आपको बताते हैं कि आखिर हर किसी की जुबां पर जॉनसन का नाम क्यों आ रहा है। जॉनसन तो क्रिकेट के खेल को अलविदा कह चुके हैं तो इसके बाद भी इंग्लैंड को जॉनसन के नाम से क्यों डराया जा रहा है। दरअसल, इसके पीछे जॉनसन का वो कातिलाना स्पेल है जो उन्होंने 2013-14 में इंग्लैंड के खिलाफ किया था। जॉनसन 2013-14 में अपनी तेजी, बाउंस और सटीक लाइन लेंथ से इंग्लैंड के बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे थे और अपनी टीम को 5-0 से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी।

एशेज सीरीज: बार्मी-आर्मी के नये गाने ने मचाई धूम
एशेज सीरीज: बार्मी-आर्मी के नये गाने ने मचाई धूम

2013-14 में खेली गई एशेज सीरीज में जॉनसन ने पहले टेस्ट में (4, 5), दूसरे टेस्ट में (7, 1), तीसरे टेस्ट में (2, 4), चौथे टेस्ट में (5, 3) और पांचवें टेस्ट में (3, 3) विकेट लेकर पूरी सीरीज में हंगामा मचा दिया था। पांच मैचों की उस सीरीज में जॉनसन ने 37 विकेट झटके थे। इस दौरान उन्होंने 3 बार पारी में 5 विकेट भी लिए थे। साफ है ये आंकड़े किसी भी टीम को डराने के लिए काफा हैं और इसीलिए हर किसी की जुबां पर जॉनसन का नाम है।