बेन स्टोक्स के नाबाद शतक के दम पर तीसरे मैच को जीत बराबरी करने वाली इंग्लैंड की टीम आत्मविश्वास से भरी है और इसी के दम पर वह बुधवार से शुरू हो रहे एशेज सीरीज के चौथे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया को एक बार फिर मात दे बढ़त  बनाना चाहेगी। सीरीज का पहला मैच ऑस्ट्रेलिया ने जीता था।

पढ़ें:- शमी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट को पत्‍नी ने आसाराम, राम रहीम से जोड़ा, बोली…

दूसरा मैच ड्रॉ था। तीसरे मैच में बेन स्टोक्स के शतक के दम पर इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के मुंह से जीत छीन सीरीज में बराबरी की थी। इस मैच में हालांकि इंग्लैंड के लिए एक चिता की बात है तो ऑस्ट्रेलिया के लिए अच्छी खबर है। इन फॉर्म  बल्लेबाज स्टीवन स्मिथ इस मैच में वापसी करेंगे। कायदे से देखा जाए तो ऑस्ट्रेलिया का अगर इस सीरीज में पलड़ा भारी रहा है तो उसका बहुत बड़ा कारण स्मिथ हैं।

शुरुआती तीन टेस्ट मैचों में उन्होंने अपनी बल्लेबाजी से टीम को संकंट से निकाला। उनके अलावा कोई और खास प्रभाव नहीं छोड़ सका है। डेविड वार्नर का बल्ला शांत ही है। उस्मान ख्वाजा निरंतरता नहीं रख पाए हैं। मैथ्यू वेड ने एक शतक जरूर लगाया है लेकिन इसके बाद वो भी जल्दी पवेलियन बैठते दिखे हैं। कप्तान टिम पेन भी कुछ कमाल नहीं दिखा पाए हैं। पेन ने हालांकि ख्वाजा को अंतिम-12 में नहीं चुना है।

पढ़ें:- टी20 अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट से मिताली के संन्‍यास पर पूर्व कप्‍तान ने कहा- अब तुम..ले

पिछले मैच में स्मिथ के स्थान पर मैदान पर उतरने वाले मार्नस लाबुशेन ने अच्छी बल्लेबाजी की थी। इस मैच में उनका खेलना तय लग रहा है, लेकिन सवाल यह है कि स्मिथ की वापसी से किस बल्लेबाज के लिए टीम का रास्त बंद होगा?

मार्कस हैरिस सलामी बल्लेबाज के तौर पर ज्यादा उपयोगी साबित नहीं हुए हैं और निचले क्रम में वेड भी एक पारी के बाद शांत हैं। संभवत: पेन इन दोनों में से किसी एक को बाहर बैठा सकते हैं।

इंग्लैंड के लिए स्मिथ का वापस आना जरूर परेशानी का सबब होगा लेकिन जोफ्रा आर्चर जिस तरह की फॉर्म में हैं उससे मेजबान को राहत होगी। आर्चर इंग्लैंड की मजबूत कड़ी रहे हैं। वह जेम्स एंडरसन के स्थान पर टीम में आए थे और अनुभवी गेंदबाज की कमी को उन्होंने खलने नहीं दिया है।

टीमें : 

आस्ट्रेलिया : टिम पेन (कप्तान/विकेटकीपर), स्टीवन स्मिथ, डेविड वार्नर, मार्कस हैरिस, मार्नस लाबुशेन, ट्रेविस हेड, मैथ्यू वेड, (विकेटकीपर), पैट कमिंस, पीटर सिडल, मिशेल स्टार्क, नाथन लियोन, जोश हेजलवुड।

इंग्लैंड : जो रूट (कप्तान), रोरी बर्न्‍स, जोए डेनले, जेसन रॉय, बेन स्टोक्स, जॉनी बेयरस्टो (विकेटकीपर), जोस बटलर, क्रेग ओवरटन, जोफ्रा आर्चर, स्टुअर्ट ब्रॉड, जैक लीच।