This is 365-day hard work and dedication: Former cricketer Dodda Ganesh applauds tailenders Shardul Thakur, Washington Sundar
वाशिंगटन सुंदर-शार्दुल ठाकुर (Twitter)

पूर्व भारतीय क्रिकेटर डोडा गणेश का कहना है कि टीम इंडिया के पुछल्ले बल्लेबाज अब वो खिलाड़ी नहीं हैं जो किसी भी अटैक के खिलाफ सस्ते में आउट हो जाया करते थे। गणेश का ये बयान वाशिंगटन सुंदर और शार्दुल ठाकुर के गाबा टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 123 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी बनाने के बाद आया।

टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में गणेश ने कहा, “ये भारतीय क्रिकेट के लिए अच्छे संकेत हैं। जब भारत को एक साझेदारी की जरूरत थी तो दोनों नए खिलाड़ी ठाकुर और सुंदर ने अच्छी बल्लेबाजी की। ब्रिसबेन में वो भारतीय टीम के लिए संकटमोचन बने।”

उन्होंने कहा, “ये कोई रातोंरात होने वाला चमत्कार नहीं है। ये 365 दिनों की कड़ी मेहनत और समर्पण का नतीजा है। भारतीय पुछल्ले बल्लेबाज अब वो बल्लेबाज नहीं हैं तो कुछ ही ओवर में आउट हो जाते थे। शार्दुल और सुंदर ने ये साबित किया है। वो गेंदबाजी कर सकते हैं और विकेट ले सकते हैं। वो बल्लेबाजी करते हुए रन भी बना सकते हैं।”

दोबारा टेस्ट टीम के कप्तान बनकर आलोचकों को जवाब दें स्मिथ: हीली

पूर्व क्रिकेटर ने आगे कहा, “हमारे समय में गेंदबाज बल्लेबाजी पर बहुत कम ध्यान देते थे। आजकर, आपके पास साइड आर्म, बॉलिंग मशीन और स्पोर्ट स्टाफ है। हमें बीसीसीआई, स्टेट क्रिकेट एसोसिशएन और एनसीए का शुक्रिया करना चाहिए। वो भारतीय क्रिकेट में नई चीजें और तकनीक ला रहे हैं। उन्हें इस सफलता का श्रेय मिलना चाहिए।”

ठाकुर-सुंदर की साझेदारी की मदद से भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया के बनाए 369 रन के स्कोर के जवाब में 336 रन बनाए और भारतीय टीम को मैच में वापसी कराई।