एमएस धोनी और उनके मित्र संतोष  © Twitter
एमएस धोनी और उनके मित्र संतोष
© Twitter

भारतीय टीम को 2011 में विश्व कप जिताने वाले कैप्टन कूल एमएस धोनी की वैसे तो कई बातें लोकप्रिय हैं लेकिन बिना किसी दो राय के धोनी की बल्लेबाजी का सबसे मुख्य हथियार हेलीकॉप्टर शॉट रहा है। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि एमएस धोनी ने इस शॉट को खुद इजाद नहीं किया था। इस बात का खुलासा धोनी की हाल ही में रिलीज हुई फिल्म ‘एमएस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी’ में किया गया है। फिल्म में बताया गया है कि धोनी को यह शॉट उनके बचपन के दोस्त संतोष लाल ने सिखाया था, जिनका 2013 में देहावसान हो गया।

संतोष इस शॉट को थप्पड़ शॉट कहते थे। धोनी ने संतोष से ये शॉट कुछ समोसों के बदले सीखा था। भले ही धोनी टीम इंडिया में आकर अपनी लोकप्रियता में गोते लगा रहे थे लेकिन इसके बावजूद उन्होंने अपने मित्र संतोष से नाता नहीं तोड़ा और उनसे लगातार झारखंड टीम से रणजी खेलने के दौरान तक संपर्क में बने रहे। संतोष की मृत्यु एक बीमारी के कारण साल 2013 में 32 साल की उम्र में हो गई थी। जब अंतिम समय संतोष अपनी मौत से जूझ रहे थे तब धोनी ने वो सब किया जिससे कि उनके दोस्त की जिंदगी बच जाए। जब धोनी ने उनके लिए हेलीकॉप्टर भेजा तब संतोष एक्यूट पैंक्रियाटिटीज नामक गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे और उन्हें तत्काल मेडिकल केयर की जरूरत थी। जब धोनी को अपने दोस्त के हालातों के बारे में पता चला तब वह टीम इंडिया के साथ विदेशी दौरे पर थे। उन्होंने संतोष के इलाज के लिए तत्काल एयर एंबुलेंस की व्यवस्था रांची से दिल्ली के लिए की ताकि संतोष का अच्छी तरह से उपचार हो सके।

दुर्भाग्य से खराब मौसम के कारण हेलीकॉप्टर को दिल्ली पहुंचने से पहले बनारस में उतरना पड़ा और जब हेलीकॉप्टर अंततः दिल्ली पहुंचा तो काफी देर हो चुकी थी। संतोष के साथ धोनी ने अपने शुरुआती दिनों में लंबे समय तक टेनिस बॉल से क्रिकेट खेली और दोनों झारखंड में विभिन्न जगह क्रिकेट खेलने के साथ- साथ गए। संतोष के लंबे समय से दोस्त रहे निशांत दयाल ने तीन साल पहले इंडियन एक्सप्रेस में बातचीत में बताया था कि धोनी और संतोष बचपन से ही पक्के दोस्त रहे हैं। यहां तक कि भारतीय कप्तान एमएस धोनी संतोष की बैटिंग स्टाइल की प्रशंसा भी करते थे। दयाल ने बताया था, “वह और धोनी बचपन से ही बेस्ट फ्रेंड थे। वे लगातार कई- कई घंटों तक टेनिस बॉल से क्रिकेट खेलते थे। उन दोनों ने रेलवे के लिए भी काम किया।” एमएस धोनी की फिल्म साल 30 सितंबर को रिलीज हुई है। फिल्म में संतोष का जिक्र भी किया गया है।