Tom Curran hopefull of getting in World Cup squad by putting good performances in BBL
Tom Curran © Getty Images

23 साल के इंग्लिश क्रिकेटर टॉम कर्रन बिग बैश लीग में अच्छा प्रदर्शन कर विश्व कप स्क्वाड में जगह बनाने की उम्मीद रहे हैं। सिडनी सिक्सर्स के लिए बीबीएल खेल रहे कर्रन जल्द ही वेस्टइंडीज दौरे इंग्लैंड वनडे स्क्वाड से जुड़ेंगे।

ये भी पढ़ें: इतनी जल्दी राष्ट्रीय टीम में आने की उम्मीद नहीं थी: मयंक मारकंडे

विश्व कप खेलने पर कर्रन ने कहा, “इन बड़े फ्रेंचाइजी बेस्ड टूर्नामेंट में खेलने से मदद मिलती है। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के बाद यही सबसे बड़ा स्टेज है, इसलिए वहां जाना और अच्छा करना मुझे आत्मविश्वास देता है। उम्मीद है कि मैं यहां अच्छा प्रदर्शन कर सकूंगा और विश्व कप स्क्वाड में शामिल हो पाउंगा।”

इंग्लिश ऑलराउंडर ने कहा, “मैं चयन के बारे में ना सोचने की कोशिश करता हूं। कहीं ना कहीं दिमाग में ये बात रहती है कि आपको स्क्वाड में जाना है और आपको खेलना है लेकिन मैं ज्यादा ध्यान ना देने की कोशिश करता हूं। ये मेरे नियंत्रण से बाहर है इसलिए मैं उस पर ध्यान देता हूं जो मैं कर सकता हूं।”

ये भी पढ़ें: श्रीलंका को हराने के लिए धैर्य रखने की जरूरत: डुआने ओलिवर

कर्रन अकेले खिलाड़ी नहीं हैं जो बिग बैश को सीढ़ी बनाकर विश्व कप स्क्वाड तक पहुंचना चाहते हैं। तेज गेंदबाज जोफ्रा ऑर्चर भी इंग्लैंड के लिए विश्व कप खेल सकते हैं। ऑर्चर के बारे में कर्रन ने कहा, “मुझे यकीन है कि उसका स्वागत होगा। ये लड़कों का अच्छा समूह है। मुझे ऐसा कोई कारण नहीं दिखता है जिससे उसके शामिल नहीं किया जा सके। वो एक अच्छा खिलाड़ी है लेकिन टीम चुनना मेरा काम नहीं है। टी20 की प्रतिभा (वनडे में) ट्रांसफर की जा सकती है। दोनों लगभग एक जैसे ही हैं।”

डेथ ओवर में गेंदबाजी करना पसंद करते हैं कर्रन

कर्रन ने अब तक खेले 7 वनडे मैचों में कुल 18 विकेट लिए हैं, जिसमें एक पांच विकेट हॉल भी शामिल है। जो कि उन्होंने पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पर्थ में लिया था। कर्रन दबाव भरे मैचों में आखिरी ओवरों में गेंदबाजी करने से नहीं कतराते। इस बारे में उन्होंने कहा, “मैं डेथ ओवरों में गेंदबाजी करना पसंद करता हूं और, अगर मैं इसे और बेहतर बना पाया तो ये मेरा अहम हथियार बन जाएगा।”

ये भी पढ़ें: ‘विश्व कप टीम पर अंतिम फैसले से पहले रिषभ पंत को कुछ मौका मिलेगा’

कर्रन ने आगे कहा, “मुझे लगता है कि ये मेरी डेथ ओवर गेंदबाजी थी, जिसने मुझे इंग्लैंड के लिए टी20 डेब्यू करने का मौका दिया। आप मुश्किल भरे मौकों पर प्रदर्शन करना चाहते हैं। यॉर्कर को खेलना सबसे कठिन होता है और इसे डालना भी मुश्किल होता है। मैं इस पर लगातार काम कर रहा हूं और बेहतर होने की कोशिश कर रहा हूं। सब कुछ अच्छा चल रहा है।”