Trailblazers vs Supernovas, Final: I just told the girls that these are the last 20 overs of the tournament; Says Smriti Mandhan
Smriti Mandhana @twitteripl

स्मृति मंधाना की अगुआई वाली ट्रेलब्लेजर्स ने स्मृति मंधाना की कप्तानी वाली सुपरनोवाज को हराकर पहली बार महिला टी20 चैलेंज खिताब अपने नाम किया। ट्रेब्लेजर्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 8 विकेट पर 118 रन बनाए थे। इसके जवाब में सुपरनोवा टीम 7 विकेट पर 102 रन ही बना सकी।

मंधाना को पता था कि बल्लेबाजी के लिए मुश्किल विकेट पर 118 रन का बचाव किया जा सकता है और इसलिए ट्रेलब्लेजर्स की कप्तान का सुपरनोवाज के खिलाफ महिला टी20 चैलेंज फाइनल में अपनी खिलाड़ियों के लिये स्पष्ट संदेश था कि 20 अच्छे ओवर करने पर वे चैंपियन बन सकते हैं।

अपने बच्चे के जन्म के समय मौजूद रहने के कोहली के फैसले का सम्मान करना होगा: CA सीईओ हॉकले

ट्रेलब्लेजर्स ने पहले बल्लेबाजी का न्योता मिलने पर मंधाना के 68 रन की मदद से सोमवार को 8 विकेट पर 118 रन बनाए।

मंधाना ने मैच के बाद कहा, ‘मेरा विकेट महत्वपूर्ण था क्योंकि इस पिच पर बल्लेबाजी करना आसान नहीं था और जो भी बल्लेबाज टिका हो उसे कम से कम 18वें ओवर तक तो खेलना चाहिए था। अगर मैं आखिर तक बल्लेबाजी करती तो हम 145 रन तक पहुंच सकते थे जो बहुत अच्छा स्कोर होता। इस विकेट पर 118 रन भी चुनौतीपूर्ण स्कोर था।’

TRL vs SPN Highlights: सुपरनोवा को हराकर ट्रेलब्लेजर्स ने जमाया महिला टी20 चैलेंज खिताब पर कब्जा

उन्होंने कहा, ‘मैंने लड़कियों से केवल यही कहा कि हमारे पास ये अंतिम 20 ओवर हैं और हमें नहीं पता कि फिर कब खेलने का मौका मिलेगा। अगर हम 20 अच्छे ओवर करते हैं तो हम जीत जाएंगे। पहली गेंद से मुझे विश्वास था कि हम ऐसा कर सकती हैं।’

मंधाना ने कहा विदेशी खिलाड़ियों के साथ अभ्यास करने का अनुभव शानदार रहा।

उन्होंने कहा, ‘विदेशी खिलाड़ियों और हमारी युवा खिलाड़ियों के साथ नेट अभ्यास करना अच्छा अनुभव रहा। कुछ नई सीख मिली और हमने अपने अनुभव बांटे। युवा खिलाड़ियों के लिये राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने से पहले डियांड्रा डोटिन जैसी खिलाड़ियों की बात सुनना फायदेमंद रहा।’