Trevor Bayliss wants T20Is to be restricted to World Cup and league events
ट्रेवर बेलिस © Getty Images

न्‍यूजीलैंड में हो रही टी20 ट्राई सीरीज में मेजबान टीम के खिलाफ मैच में जीत हासिल करने के बाद भी धीमी रन रेट की वजह से इंग्लैंड टीम को टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा। इस हार के बाद इंग्‍लैंड टीम के कोच ट्रेवर बेलिस का गुस्‍सा फूट गया। उन्‍होंने टी20 फॉर्मेट को जमकर कोसा और कहा कि अंतर्राष्ट्रीय टीमों को टी20 क्रिकेट नहीं खेलना चाहिए या फिर टी20 मैचों को अंतराष्‍ट्रीय स्‍तर पर कम कर देना चाहिए। हालांकि तुरंत ही मेजबान न्‍यूजीलैंड टीम के कोच का बयान भी सामने आ गया। उन्‍होंने बेलिस के बयान से असहमति जाहिर करते हुए टी20 क्रिकेट की जमकर तारीफ की।

बेलिस ने स्काई स्पोर्ट्स को दिए बयान में कहा कि अगर हम हर चार साल में विश्व कप क्रिकेट खेलना चाहते हैं, तो अंतर्राष्ट्रीय टीमों को छह महीने पहले ही टी20 क्रिकेट खेलना बंद कर देना चाहिए। इंग्‍लैंड साल 2020 में पहले टी20 टूर्नामेंट की मेजबानी करेगा। ऐसे में एक हार के बाद उनके कोच का ये बयान चौंकाने वाला है।

भारतीय महिला बनाम दक्षिण अफ्रीका महिला टीम, चौथा टी20 (प्रिव्यू): सीरीज जीतने पर रहेगी टीम इंडिया की निगाहें
भारतीय महिला बनाम दक्षिण अफ्रीका महिला टीम, चौथा टी20 (प्रिव्यू): सीरीज जीतने पर रहेगी टीम इंडिया की निगाहें

बेलिस ने कहा कि टी20 क्रिकेट में काफी कॉम्पटीशन है और खिलाडि़यों का कार्यक्रम बेहद व्‍यस्‍त होता है, ऐसी स्थिति में जरूरत इस बात की है कि सभी अंतरराष्‍ट्रीय टीम एक ही कोच को तीनों फॉर्मेट में रखने के बजाए टी20 के लिए अलग से कोच की नियुक्ति करें। अगर इसी गति से हम लगातार सारे फार्मेट के मैच खेलते रहे तो खिलाड़ियों के साथ-साथ कोच भी इससे उबने लगेंगे।

बेलिस से उलट न्यूजीलैंड के कोच माइक हेसन की राय में टी20 मैच क्रिकेट और क्रिकेटरों को बढ़ावा देने वाली प्रतियोगिता है। हालांकि उन्‍होंने यह भी स्‍पष्‍ट कहा कि लंबे दौरों के कारण खिलाड़ियों और अन्‍य स्टाफ की फिटनेस पर भी प्रभाव पड़ता है।