Trevor Bayliss wants to bow out on a high by guiding England to ICC Men’s Cricket World Cup 2019 and The Ashes victory
Trevor Bayliss © Getty Images

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के प्रमुख कोच ट्रेवर बेलिस टीम को विश्व कप 2019 और एशेज सीरीज में जीत दिलाकर विदा लेना चाहते हैं। दरअसल बेलिस का कॉन्ट्रेक्स इसी साल सितंबर में खत्म हो रहा है। इंग्लैंड को वनडे की सर्वश्रेष्ठ टीम बनाने का श्रेय बेलिस को ही जाता है। उनकी अगुवाई में टेस्ट क्रिकेट में भी इंग्लैंड टीम ने सुधार दिखाया है।

ये भी पढ़ें: ‘भारत के खिलाफ वनडे सीरीज में मैं ऑस्ट्रेलिया की कमजोर कड़ी था’

अब जबकि इंग्लैंड टीम के साथ बेलिस का सफर खत्म होने को आया है तो वो एक बड़ी जीत के साथ जाना चाहते हैं। कोच के लिए विश्व कप और एशेज दोनों ही बड़े टूर्नामेंट हैं लेकिन बेलिस एशेज को प्राथमिकता देते हैं।

उन्होंने कहा, “मुझे नहीं लगता (विश्व कप जीतना हमारी प्राथमिकता है)। ऑस्ट्रेलिया को एशेज हराने से बड़ी कोई चीज नहीं, जैसा कि हमने 2015 में किया था। और 12 महीने पहले ऑस्ट्रेलिया में हारने के बाद, दोनों में से एक को चुनना और मुश्किल हो गया है। उम्मीद है कि हम दोनों ट्रॉफी जीतेंगे।”

ये भी पढ़ें: मिशेल जॉनसन ने विश्व कप 2019 के लिए ग्लेन मैक्सवेल को चुना कप्तान

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घर पर खेलने से इंग्लैंड को घरेलू हालात का फायदा तो मिलेगा लेकिन टीम पर घरेलू फैंस का दबाव भी रहेगा। हालांकि बेलिस का कहना कि उनके खिलाड़ी इससे निपट लेंगे। बेलिस ने कहा, “अगले छह महीने में घर पर इससे बड़ा कुछ और नहीं हो सकता। ये अपने आप में एक बड़ा दबाव बनाता है और हम दबाव में अच्छा खेलने पर काम कर रहे हैं।”

विश्व कप और एशेज से पहले इंग्लैंड टीम के सामने वेस्टइंडीज का दौरा है। इंग्लैंड 23 जनवरी से विंडीज टीम के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज शुरू करेगी। बेलिस का लक्ष्य पहले मैच में जीत हासिल कर बढ़त बनाना है।

ये भी पढ़ें:  ‘पिछले 15-16 महीनों में धोनी का साथ ना छोड़ने के लिए कोहली की प्रशंसा करता हूं’

कोच ने कहा, “1-0 की जीत से हमारा काम चल जाएगा। हम टेस्ट सीरीज जीतना चाहते हैं लेकिन हम हर मैच जीतने के लिए खेलेंगे। हमें पता है कि ऐसा करना संभव नहीं है और पिछले 12-18 महीनों में विंडीज टीम ने टेस्ट में अच्छा प्रदर्शन किया है और 18 महीने पर उन्होंने हमें हराया था। घर से दूर खेलने आसान नहीं होता है जैसा कि हम पिछले कई सालों में हर देश के नजरिए से देख चुके हैं। इसलिए हम उन्हें हल्के में नहीं ले रहे हैं।”