बीसीसीआई को रणजी ट्रॉफी के साथ तारीखों में टकराव के कारण कूच बेहार ट्रॉफी के कार्यक्रम में बदलाव करना पड़ सकता है क्योंकि दो टूर्नामेंट एक साथ कराने के लिएण्‍ अंपायर और मैच रैफरी नहीं हैं।

टूर्नामेंट में नौ नए राज्यों के आने से भारतीय क्रिकेट का घरेलू कैलेंडर काफी अस्त व्यस्त हो गया है ।

बीसीसीआई को राष्ट्रीय अंडर-19 टूर्नामेंट के मैच दो या तीन दिन आगे बढाने होंगे। कूच बेहार ट्रॉफी-19 नवंबर को शुरू होनी थी लेकिन उसी दिन रणजी ट्रॉफी के भी कुछ मैच हैं।

बीसीसीआई के महाप्रबंधक (क्रिकेट) सबा करीब ने कहा, ‘कूच बेहार ट्रॉफी दो तीन दिन के लिए आगे बढाई जा सकती है।’

‘रणजी ट्रॉफी के लिए नई टीमों ने दिखाई क्षमता’

टूर्नामेंट के दौरान 50 से अधिक मैदानों का इस्तेमाल किया जाएगा जो साजो सामान की दृष्टि से बड़ी चुनौती होगी लेकिन बीसीसीआई के क्रिकेट संचालन महाप्रबंधक सबा करीम ने कहा है कि उनकी टीम इसके लिए तैयार है।

करीम ने कहा, ‘हम तैयार हैं और हमने रणजी ट्रॉफी से पहले घरेलू टूर्नामेंटों (विजय हजारे ट्रॉफी, दलीप ट्रॉफी, देवधर ट्रॉफी) के सफल आयोजन से इसे साबित किया है।’

भारत के इस पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज ने कहा, ‘ नई टीमों ने अपनी क्षमता दिखाई है। इसमें कोई शक नहीं कि रणजी ट्रॉफी उनकी सबसे बड़ी चुनौती होगी लेकिन मैं यह देखने को उत्सुक हूं कि वे बाहरी खिलाड़ियों की मदद से कैसा प्रदर्शन करते हैं।’

(इनपुट-भाषा)