हार्दिक पांड्या। © Getty Images
हार्दिक पांड्या। © Getty Images

भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेले गए तीसरे टी20 मैच में भले ही हार्दिक पांड्या बल्ले से कुछ खास नहीं कर पाए हों लेकिन फील्डिंग के दौरान पांड्या ने न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन को रन आउट कर हर किसी का ध्यान अपनी तरफ खींचा। पांड्या ने बिजली की रफ्तार से पलभर में ही गेंद को स्टंप्स पर मार विलियमसन को रन आउट कर उन्हें पवेलियन का रास्ता दिखा दिया। विलियमसन के रन आउट ने कीवी टीम की हार पक्की कर दी और पांड्या ने टीम इंडिया की जीत। आइए आपको बताते हैं कि पांड्या ने कैसे विलियमसन को आउट किया।

पांड्या के रॉकेट थ्रो ने दिलाई टीम इंडिया को जीत: कीवी टीम की पारी के पांचवें ओवर के दौरान कुलदीप यादव ओवर फेंक रहे थे। स्ट्राइक पर थे केन विलियमसन। ओवर की तीसरी गेंद को विलियमसन ने क्रीज से आगे बढ़कर शॉट खेला। शॉट खेलते ही विलियमसन रन लेने के लिए दौड़ पड़े। इसी बीच मिड ऑन पर फील्डिंग कर रहे पांड्या तेजी से गेंद की तरफ बढ़े और गेंद को उठाकर बिजली की रफ्तार से स्टंप्स की तरफ थ्रो कर दिया। गेंद स्टंप्स पर लग गई और विलियमसन क्रीज से थोड़ी दूर रह गए। थ्रो इतना तेज था कि विलियमसन को क्रीज में बल्ला रखने का भी समय नहीं मिल पाया। इस थ्रो ने भारतीय खेमे में खुशी की लहर दौड़ा दी और हर कोई जश्न में डूब गया।

हार्दिक पांड्या के हाथ में चोट लगने के बाद विराट कोहली फेंकने वाले थे आखिरी 4 गेंदें?
हार्दिक पांड्या के हाथ में चोट लगने के बाद विराट कोहली फेंकने वाले थे आखिरी 4 गेंदें?

क्या रहा नतीजा: पांड्या ने जब विलियमसन को आउट किया तो कीवी टीम का स्कोर 4.3 ओवरों में 28 रन पर 2 विकेट था। विलियमसन 10 गेंदों में 8 रन ही बना सके। ये तो सब जानते हैं कि अगर विलियमसन आखिरी ओवर तक मैच में रुक जाते तो मैच का नतीजा कीवी टीम की तरफ झुक सकता था। विलियमसन के आउट होने के बाद कीवी टीम पूरी तरह से बिखर गई और अंत में टीम को 6 रनों से हार का सामना करना पड़ा।