महेंद्र सिंह धोनी © IANS
महेंद्र सिंह धोनी © IANS

भले ही महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय टीम की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया हो, लेकिन उनकी कप्तानी का जादू अब भी बरकरार है। धोनी की कप्तानी में झारखंड की टीम ने जम्मू-कश्मीर को हराकर विजय हजारे ट्रॉफी के क्वॉर्टरफाइनल में प्रवेश कर लिया। झारखंड ने मुकाबले को 6 विकेट से अपने नाम किया। झारखंड के कप्तान धोनी ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया। जम्मू-कश्मीर की शुरुआत अच्छी नहीं रही और टीम ने अपने दोनों सलामी बल्लेबाजों को मात्र 39 रनों पर ही खो दिया। हालांकि इसके बाद ओवैस शाह और परवेज रसूल ने टीम को संभालने की कोशिश की और स्कोर को 100 रनों के पार पहुंचा दिया। जब लगने लगा कि दोनों बल्लेबाजों की नजरें जम चुकीं हैं, तभी रसूल को नदीम ने (45) रनों के निजी योग पर आउट कर झारखंड को तीसरी सफलता दिला दी। भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, दूसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन के लाइव ब्लॉग को पढ़ने के लिए क्लिक करें

जम्मू-कश्मीर की तरफ से सिर्फ एक ही बल्लेबाज अर्धशतक लगा सका और ओवैस शाह ने (59) रनों की पारी खेली। शाह के आउट होते ही जम्मू-कश्मीर की पारी तास के पत्तों की तरह ढह गई और पूरी टीम 43 ओवरों में मात्र 184 रनों पर सिमट गई। टीम के छह बल्लेबाज दहाई के आंकड़े को भी नहीं छू सके। झारखंड की तरफ से शाहबाज नदीम ने (5) खिलाड़ियों को आउट किया। जवाब में 185 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी झारखंड टीम की शुरुआत भी खराब रही और टीम का पहला विकेट मात्र 2 रनों पर ही गिर गया। हालांकि इसके बाद शशीम राठौर और कुमार देओब्रत ने पारी को संभाला और दूसरे विकेट के लिए 70 रनों की साझेदारी की। हालांकि जब टीम का स्कोर 83 रन था तभी टीम को दूसरा झटका लग गया और राठौर (36) रन बनाकर पवेलियन लौट गए। देओब्रत ने एक छोर संभाले रखा और अर्धशतक जड़ दिया। वहीं अंतिम समय में बल्लेबाजी करने आए धोनी ने अपनी टीम को जीत दिला दी। धोनी ने 17 गेंदों में 19 रनों की पारी खेली। धोनी ने अपनी पारी में दो चौके और एक छक्का लगाया। देओब्रत ने 78 रनों की शानदार पारी खेली। झारखंड की इस जीत ने उन्हें कॉर्टरफाइनल में पहुंचा दिया है।