virat got full support from bcci do not know what he is talking about says bcci officials

नई दिल्ली: विराट कोहली ने एशिया कप 2022 में लगातार दो हाफ सेंचुरी लगाकर फॉर्म में आने के संकेत दिए हैं। पाकिस्तान के खिलाफ उन्होंने 44 गेंद पर 60 रन की पारी खेली। रविवार को सुपर 4 मुकाबले में भारत को पांच विकेट से हार का सामना करना पड़ा लेकिन कोहली भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे। कोहली ने अभी तक तीन मैचों में 154 रन बनाए हैं और वह टूर्नमेंट में अभी तक सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट में दूसरे पायदान पर हैं।

फॉर्म में आना कोहली और टीम इंडिया के लिए अच्छा संकेत है। इस बीच भारत-पाकिस्तान मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कोहली ने कहा था कि जब उन्होंने टेस्ट की कप्तानी छोड़ी थी तो उन्हें सिर्फ महेंद्र सिंह धोनी ने फोन किया था।

33 वर्षीय इस खिलाड़ी ने यह भी कहा कि कई लोगों ने उन्हें सार्वजनिक रूप से सपॉर्ट किया लेकिन किसी ने सीधे तौर पर उनकी मदद की कोशिश नहीं की। विराट कोहली और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के बीच मनमुटाव को लेकर कई खबरें चलती रही हैं। इंडियन प्रीमियर लीग 2022 के बाद विराट कोहली ने कई मुकाबले मिस किए। इसके बाद बोर्ड और प्रबंधन के साथ उनके रिश्तों को लेकर अटकलें बढ़ने लगीं।

कोहली ने भारत-पाक मैच के बाद कहा था, ‘जब मैंने टेस्ट कप्तानी छोड़ी, तो मुझे सिर्फ एक व्यक्ति का फोन आया और मैं उनके साथ खेला हूं। वह इनसान थे महेंद्र सिंह धोनी। बाकी सबके पास मेरा नंबर था लेकिन किसी ने मुझे मेसेज नहीं किया। कई लोगों के पास मेरा नंबर था। कई लोग हैं जो टीवी पर सलाह देते रहे हैं।’

हालांकि, हालिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बीसीसीआई अधिकारी ने कहा कि कोहली को हमेशा बोर्ड में सबका सपॉर्ट था। उन्होंने यह भी कहा कि बीसीसीआई ने कोहली को ब्रेक भी दिए और हालिया वक्त में उन्होंने काफी आराम भी किया और उन्हें नहीं पता कि आखिर कोहली किस बात की शिकायत कर रहे हैं।

इनसाइडस्पोर्ट्स की खबर के मुताबिक, ‘विराट को हमेशा सबका साथ मिला। उनके टीम के साथियों से लेकर बीसीसीआई में सबने उनका साथ दिया। यह कहना कि उन्हें किसी का सपॉर्ट नहीं मिला, सच नहीं है। तरोताजा होने के लिए उन्हें ब्रेक दिया गया, उन्हें लगातार आराम दिया गया। और तो और जब उन्होंने टेस्ट कप्तानी छोड़ी तो बीसीसीआई से सबने उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं। तो, मुझे नहीं पता कि वह किस बारे में बात कर रहे हैं।’