नई दिल्लीः पिछले एक दो साल से युवा बल्लेबाज रिषभ पंत (Rishabh Pant) को भारतीय क्रिकेट टीम में बहुत से मौके दिए गए. कई बार उनकों हटाने पर भी जोर दिया गया लेकिन टीम प्रबंधन और कप्तान पर उन पर भरोसा जताया लेकिन वे उसके अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाए. लेकिन अब माना जा रहा है कि रिषभ को मिलने वाले मौके अब खत्म हो गए हैं और उनकी टीम में वापसी बहुत मुश्किल ही है. ऐसा हम इसलिए कह रहे है क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज जीतने के बाद कप्तान कोहली(Virat Kohli) ने जो बात कही है वह इधर ही इशारा कर रही है.

ऑस्ट्रेलिया(Australia) के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरीज का पहला मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया था और इसमें ऑस्ट्रेलिया ने जीत दर्ज की थी. इस मैच में विकेट कीपर के तौर पर रिषभ पंत भी शामिल थे लेकिन मैच के बीच में ही उन्हें चोट लग गई और उनकी जगह पर केएल राहुल(K. L. Rahul) को विकेट कीपिंग के लिए बुलाया गया. पहले मैच में पंत ने मात्र 27 रन बनाए थे जबकि केएल राहुल ने 47 रन की पारी खेली थी.

सीरीज का दूसरा मैच राजकोट में खेला गया था और इसमें भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 340 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया था. इसमें सबसे ज्यादा अहम योगदान केएल राहुल की पारी का था. राहुल ने 52 गेंदों पर 80 रन की धमाकेदार पारी खेली थी.

तीसरे मैच के लिए रिषभ पंत फिट हो गए थे लेकिन उन्हें टीम में शामिल नहीं किया गया. जीत के बाद कप्तान कोहली ने भी केएल राहुल की बहुत बड़ाई की और कहा कि यदि वह कीपिंग में आ जाता है तो हमारे पास एक अतिरिक्त बल्लेबाज होगा और यह टीम को काफी मजबूती देगा. उन्होंने इसके लिए सीधे तौर पर राहुल द्रविड़ का उदाहरण भी पेश किया कि जैसे उन्होंने टीम के लिए जब कीपिंग शुरू की तो टीम की बल्लेबाजी अच्छी हो गई क्योंकि अब आपके पास एक अतिरिक्त बल्लेबाज होगा.

कप्तान कोहली की यह बातें कहीं न कहीं यह इशारा कर रही थी कि अब केवल कीपिंग के पंत का टीम में होना बहुत मुश्किल है जबकि केएल राहुल जहां कीपिंग का जिम्मा संभाल रहे हैं वहीं दूसरी तरफ बल्लेबाजी में भी बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं. ऐसे में अब रिषभ पंत के लिए वापसी करना बहुत मुश्किल है.