Virat Kohli after Losing 1st Test against New Zealand: It’s not end of the world
भारतीय टेस्ट टीम (IANS)

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने माना है कि न्यूजीलैंड ने बेसिन रिजर्व मैदान पर खेले गए पहले टेस्ट मैच में टीम इंडिया को एकतरफा मात दी। हालांकि जहां एक तरफ लोग इसे बड़ी हार मान रहे हैं, वहीं कोहली ऐसा नहीं सोचते हैं। न्यूजीलैंड ने भारत को पहले टेस्ट में 10 विकेट से हरा दिया और इसी के साथ दो मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त ले ली।

मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कोहली ने कहा, “इस मैच में हमने ज्यादा प्रतिस्पर्धा नहीं दिखाई। पिछले मैचों में हमने दिखाया है कि अगर हम हारे भी हैं तो हमने अच्छी क्रिकेट खेली है और हम हमेशा मैच में बने रहे। मुझे लगता है कि पहली पारी में हमने बल्लेबाजी से अपने आप को काफी निराश किया।”

न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर भारत को बल्लेबाजी के लिए बुलाया और मेहमान टीम सिर्फ 165 रनों पर ही ढेर हो गई। कीवी टीम ने अपनी पहली पारी में 348 रन बना भारत पर 183 रनों की बढ़त ले ली। भारतीय टीम दूसरी पारी में 191 रन ही बना सकी और न्यूजीलैंड को जीत के लिए नौ रनों की ही जरूरत पड़ी जिसे उसने बिना विकेट खोए हासिल कर लिया।

विश्व कप मैच में कैथरीन ब्रंट ने सून लूस को क्यों नहीं क्या मांकड़ आउट, नेटली साइवर ने दिया जवाब

कोहली ने कहा, “हमें समझना होगा कि हम इस मैच में अपने सर्वश्रेष्ठ स्तर पर नहीं थे और इस बात को कबूल करने में कोई परेशानी नहीं है। हम जब इसे मानेंगे, तभी हम इससे बाहर निकल सकेंगे और अगले मैच में अच्छी मानसिकता और प्रतिस्पर्धा के साथ जाएंगे, जो हमने एक टीम के तौर पर दिखाई है।”

कप्तान ने कहा, “हम जानते हैं कि हमने अच्छा नहीं खेला, लेकिन अगर लोग इसे ज्यादा बढ़ा-चढ़ा कर देखना-बताना चाहते हैं तो हम इसमें कुछ नहीं कर सकते।”

आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप में ये भारत की पहली हार है। इस हार के बाद भी भारत टेस्ट चैंपियनशिप में पहले स्थान पर बनी हुई है। कोहली ने कहा कि वो ये समझने में असमर्थ हैं कि एक हार को ऐसे क्यों देखा जा रहा है जैसे ये दुनिया का अंत हो।

फिट हुए ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या, इस टूर्नामेंट से करेंगे मैदान पर वापसी

उन्होंने कहा, “कुछ लोगों के लिए ये दुनिया खत्म होने जैसी बात हो सकती है, लेकिन ऐसा नहीं है। हमारे लिए ये क्रिकेट का खेल है जो हम हार गए और अब हमें इसे आगे बढ़ना होगा और अपना सिर ऊंचा रखना होगा। हम समझते हैं कि जीतने के लिए हमें अच्छा खेलना होगा, घर में भी। अंतर्राष्ट्रीय स्तर आसान नहीं है क्योंकि यहां टीम आती रहती हैं और हारती रहती हैं। आपको ये मानना होगा और यही आपकी टीम का चरित्र बताता है।”