Virat Kohli: Balancing cricketing and endorsements easily doable
virat kohli © IANS

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली  ने शनिवार को उन विचारों को खारिज किया कि विज्ञापनों पर ज्यादा समय बिताना एक क्रिकेटर के लिए ध्यान भंग करने वाला हो सकता है।

कोहली कई ब्रांड के विज्ञापन करते हैं और कुछ तो उनके खुद के उपक्रम हैं।

कोहली ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा, ‘जब मैं रोग्न (कपड़ों का उनका ब्रांड) से जुड़ा था तो मैं 25-26 साल का था। इसके बाद भी लोगों को लगता कि मैं 25 साल की उम्र में व्यवसाय से जुड़ रहा हूं और मैं इसके लिए बहुत कम उम्र का हूं।’

उन्होंने कहा, ‘ पेशेवर खिलाड़ी के तौर पर व्यवसाय के लिए कोई उम्र की सीमा नहीं है क्योंकि आप जब भी व्यवसाय शुरू करते हो, आपको इसे बढ़ाना होता है। यह एक वाक्यांश है कि आपको एक विशेष उम्र के बाद ही व्यवसाय करना चाहिए। मैं इसमें विश्वास नहीं करता।’

कोहली ने कहा कि खिलाड़ी के लिए क्रिकेट और व्यावसयायिक हितों में संतुलन बनाना अहम होता है। उन्होंने कहा, ‘मैं नहीं मानता कि आप खेलते हुए प्रायोजन नहीं कर सकते। मैं इन सबमें विश्वास नहीं रखता। अगर आपके पास सीमित समय है तो आपको पता होना चाहिए कि आप इस सीमित समय में अपने उत्पाद को कैसे आगे बढ़ा सकते हो।’

(इनपुट-भाषा)