गेंद से छेड़छाड़ मामले में विराट कोहली के खिलाफ आईसीसी कोई एक्शन नहीं ले सकता © IANS
गेंद से छेड़छाड़ मामले में विराट कोहली के खिलाफ आईसीसी कोई एक्शन नहीं ले सकता © IANS

हाल ही में बॉल टेंपरिंग( गेंद से छेड़छाड़) करने का मुद्दा सोशल मीडिया पर गरमाया रहा है। साउथ अफ्रीका के कप्तान फॉफ डू प्लेसी पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए दूसरे टेस्ट मैच गेंद से छेड़छाड़ का आरोप लगा। उन पर आरोप लगा कि उन्होंने अपने मुंह से सलाइवा (लार) निकाल कर गेंद पर लगाकर उसकी चमक बरकरार रखने की कोशिश की जबकि उस वक्त उनके मुंह में जेली(एक तरह की टॉफी) थी। गेंद की चमक के लिए थूक का इस्तेमाल करना गलत नहीं है लेकिन जेली की वजह से उनकी थूक से मीठा पदार्थ निकला और यह एक बाहरी पदार्थ हो गया। इसी वजह से उन पर यह आरोप लगा।

इंग्लैंड के खिलाफ राजकोट टेस्ट के दौरान विराट कोहली पर भी ऐसा ही करने का आरोप लगा। एक वीडियो जिसमें विराट मुंह से थूक निकाल कर गेंद पर रगड़ रहे हैं सामने आया। यह वीडियो सामने आते ही सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और विराट के आलोचकों ने उनके खिलाफ बॉल टेंपरिंग का आरोप लगा दिया और सजा की मांग की जाने लगी, जबकि इस वीडियो में यह कन्फर्म नहीं हो पाया कि उनके मुंह में जेली है या नहीं। फिलहाल विराट ने छेड़छाड़ की या नहीं यह पता नहीं लेकिन अब इस मामले में उनके खिलाफ आईसीसी कोई कार्रवाई नहीं कर सकती। ऐसा क्यों? हम आपको बताते हैं। [Also Read: पाकिस्तान टीम के साथ मैच न खेलने की भारतीय महिला टीम को मिली सजा]

दरअसल एक ऐसा नियम है जिसकी वजह से विराट के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया जाएगा। इस नियम के अनुसार किसी भी टीम के खिलाफ इस तरह की अपील करने के लिए मात्र 5 दिन का समय होता है। चूंकि वीडियो पहले टेस्ट का है जो कि 9 से 13 नवंबर को खेला गया। इस वीडियो के सामने आने से पहले इस मैच को 5 दिन से ज्यादा हो चुके थे। यानी इंग्लैंड की टीम अपील का अपना समय गंवा चुकी है। इसलिए अब आईसीसी विराट के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर सकती है।