Virat Kohli-Devdutt Padikkal, Dale Steyn-Navdeep Saini become partners in RCB’s mentorship program
(AFP)

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (आरसीबी) ने टीम में खिलाड़ियों के बीच आपसी संबंध मजबूत करने के लिए एक अनोखा ‘मेंटरशिप कार्यक्रम’ शुरू किया है जिसमें टीम के युवा क्रिकेटरों को उनकी तरह की सोच रखने वाले सीनियर से जोड़ा जा रहा है जो उसके कौशल को निखार सकता है।

आरसीबी के कोच माइक हेसन ने इस अनोखी पहल के बारे में बताया कि टीम के प्रत्येक क्रिकेटर को टीम के दूसरे खिलाड़ी के साथ जोड़ा गया है जिसमें हर किसी को सीखने, संरक्षक बनने और अपना अनुभव साझा करने का मौका दिया जा रहा है।

उदाहरण के लिए युवा सलामी बल्लेबाज देवदत्त पडिक्कल को कप्तान विराट कोहली से जबकि तेज गेंदबाज नवदीप सैनी को दक्षिण अफ्रीका के अनुभवी तेज गेंदबाज डेल स्टेन से जोड़ा गया है।

हेसन ने टीम के ट्विटर पेज पर जारी वीडियो में कहा, ‘‘मेंटरशिप कार्यक्रम ऐसा है जिसको लेकर साइमन कैटिच काफी उत्साहित हैं। कई खेलों में ऐसा हो रहा है। जब आपके पास ऐसे खिलाड़ी होते हैं जो कि अपना अनुभव साझा करने के इच्छुक होते हैं तो ये अनुभव हासिल करने का का अच्छा मौका होता है। सबसे अधिक अनुभवी खिलाड़ी युवाओं के साथ अपने अनुभव साझा करते हैं और पुराने खिलाड़ी भी युवाओं से कुछ सीख लेते हैं।’’

KKR मैनेजमेंट ने इंजरी के बावजूद भी हमारा समर्थन किया: कमलेश नागरकोटि, शिवम मावी

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए हम देखते हैं कि हम किसके साथ जोड़ी बना रहे हैं और किनके बारे में हम सोचते हैं कि वे अभ्यास से इतर कुछ समय साथ में बिता सकते हैं। एक दूसरे को समझकर खेल पर बात कर सकते हैं।’’

हेसन ने कहा, ‘‘उदाहरण के लिए नवदीप सैनी को डेल स्टेन से जोड़ा है। स्टेन ने तेज गेंदबाजी में बहुत कुछ हासिल किया है और खेल को बारीकी से समझते हैं। नवदीप सैनी प्रतिभाशाली है और तेज गेंदबाजी करना चाहता है इसलिए इन दोनों का एक साथ बैठकर तेज गेंदबाजी पर बात करने से बेहतर कुछ नहीं हो सकता।’’

उन्होंने कहा कि पडिक्कल के लिए कोहली से बेहतर मेंटर दूसरा कोई नहीं हो सकता। हेसन ने कहा, ‘‘देवदत्त पडिक्कल की विराट कोहली के साथ जोड़ी है। एक युवा खिलाड़ी के लिए उनसे बेहतर मेंटर नहीं हो सकता है। वो महत्वाकांक्षी हैं और बल्लेबाजी क्रम में एक ही स्थान पर बल्लेबाजी करते हैं।’’

भावनाओं में बहकर युवा खिलाड़ियों पर दबाव नहीं बढ़ाना चाहता: कार्तिक

उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम संयुक्त अरब अमीरात में चल रहे इंडियन प्रीमियर लीग के लिए खिलाड़ियों को आपस में एक दूसरे के करीब लाने का हिस्सा है। हेसन ने कहा, ‘‘खिलाड़ी जितना एक दूसरे के करीब आते हैं तो इसके बाद जब वे मैदान पर होते हैं तो दबाव की परिस्थितियों में एक टीम के रूप में मिलकर काम करते हैं।’’