© AFP
© AFP

भारतीय टीम के टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने उरी आतंकी हमले के पीड़ितों को श्रद्धांजलि दी। विराट कोहली ने उरी हमले में मारे गए जवानों के परिवार के प्रति शोक व्यक्त किया। उरी आतंकी हमला वर्तमान में ज्वलंत मुद्दा है और ये हमला पूरे विश्व के साथ-साथ सोशल मीडिया में भी चर्चा का विषय बना हुआ है। कानपुर के ग्रीनपार्क स्टेडियम में न्यूजीलैंड के खिलाफ मिली जीत के बाद विराट कोहली ने हमले में मारे गए जवानों को श्रद्धांजलि दी और शोक प्रकट किया। भारत ने इसके साथ ही अपने 500वें टेस्ट में जीत हासिल कर इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज करा लिया। भारत बनाम न्यूजीलैंड पहला टेस्ट फुल स्कोर कार्ड जानने के लिए क्लिक करें…

इससे पहले मैच पर बोलते हुए कोहली ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट में सबसे जरूरी है कि टीम का निचला क्रम मजबूत हो जिससे बल्लेबाजी के दौरान वो रन बनाने में अपना योगदान दे सके। और इस क्षेत्र में हमने गेंदबाजों के साथ काफी काम किया है। निचले क्रम में अश्विन से लेकर हर कोई बल्लबाजी में अपना योगदान देना चाहता है जो विपक्षी टीम पर मनोवैज्ञानिक रूप से दबाव डालता है। विपक्षी टीम सोचती है कि वो हमें 300 पर आउट कर सकती है लेकिन आखिर में 340-360 का स्कोर दबाव वापस विपक्षी टीम पर ले आता है।

 

हमने इसे क्षेत्र में अच्छा किया है और हम इस क्षेत्र में और अच्छा करने के लिए मेहनत कर रहे हैं क्योंकि जब विदेशी दौरों पर 40-50 रनों का अंतर बहुत होता है। कोहली ने कहा- रविंद्र जडेजा ने पहली पारी में नाबाद 42 और दूसरी पारी में 50 रनों का योगदान दिया, वहीं अश्विन ने पहली पारी में 40 रन बनाए। खिलाड़ियों ने अपने हुनर का बखूबी इस्तेमाल किया। कोहली ने कहा कि मजबूत निचला क्रम टीम को सकारात्मक ऊर्जा देता है।

कोहली ने कहा कि कानपुर टेस्ट के शुरुआत में बल्लेबाजी के दौरान हम मजबूत स्थिति में थे लेकिन आसानी से विकेट गंवाने के बाद हम पर कुछ दबाव आ गया था लेकिन जडेजा और अश्विन ने पहली पारी में शानदार बल्लेबाजी की। उमेश यादव ने भी बल्ले से अच्छा प्रदर्शन किया, और निचले क्रम में बनाए गए वही 30-40 रनों ने मैच में विपक्षी टीम पर मनोवैज्ञानिक दबाव बना दिया।