Virat Kohli indicates Umesh Yadav will be in Australia after ‘standout performance’
Umesh and Virat kohli

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि उमेश यादव के ‘शानदार प्रदर्शन’ ने इस तेज गेंदबाज को अगले महीने ऑस्ट्रेलिया का दौरा करने वाली टीम में शुरुआती प्लेइंग इलेवन में चयन का प्रबल दावेदार बना दिया है।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज एडिलेड में छह दिसंबर से शुरू होगी।

उमेश ने वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट में सपाट पिच पर 10 विकेट झटके जिससे भारत इस मैच केा 10 विकेट से जीतने में सफल रहा। कोहली ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि उसने अपने करियर का लाजवाब प्रदर्शन किया और वह इस प्रदर्शन को आगे और भी बेहतर कर सकता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ऑस्ट्रेलिया में चार टेस्ट मैच काफी मुश्किल हो सकते हैं क्योंकि कूकाबूरा गेंद ऐसा बर्ताव नहीं करती है जैसा इंग्लैंड में करती है। इसलिए आपको पूरी दिन दौड़कर रफ्तार से सही लाइन एवं लेंथ में गेंदबाजी करनी होगी। लेकिन मुझे लगता है कि इस दृष्टि से उमेश ऑस्ट्रेलिया में खेलने के लिए बिलकुल सही है। ’’

कोहली ने कहा, ‘‘क्योंकि उमेश की गेंदों में तेजी है, उसका फिटनेस स्तर पूरे दिन गेंदबाजी के लिए बेहतर है, वह अहम मौकों पर विकेट भी झटकता है और उसकी गेंद अच्छा बाउंस भी ली हैं इसलिये अब यह (चयन) काफी मुश्किल होने वाला है। निश्चित रूप से सभी चारों गेंदबाज जब 140 की रफ्तार से गेंदबाजी करते हैं और वे आपके लिए विकेट चटकाते हैं तो यह चीज निश्चित रूप से ऐसी है जो हर कप्तान रखना चाहेगा। ’’

लेकिन उमेश की गेंदबाजी की खासियत इसलिए भी अहम रही कि उसे शार्दुल ठाकुर का सहयोग नहीं मिला जिनका डेब्यू ग्रोइन चोट के कारण काफी खराब रहा। विदर्भ के इस तेज गेंदबाज ने उमस भरे हालात में कम से कम 39 ओवर फेंके।

कोहली ने कहा, ‘‘उमेश का प्रयास लाजवाब रहा। मुझे लगता है कि शार्दुल के चोटिल होने के बाद दोनों पारियों में उसका इस तरह की गेंदबाजी करना शानदार रहा। इससे उसके फिटनेस स्तर का अंदाजा होता है। ’’

मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार की गेंदों में काफी विविधता है लेकिन भारतीय कप्तान ने उमेश को भी उन्हीं के साथ शामिल किया।

कोहली ने कहा, ‘‘ज्यादा लोगों के अंदाजा नहीं होगा, लेकिन वह काफी प्रतिभाशाली गेंदबाज है। वह बीच बीच में ऐसी गेंदबाजी भी करता है जिसे खेलना काफी मुश्किल होता है, हम नेट में ऐसी गेंदों को खेलते हैं। वह ऐसी भी गेंद फेंकता है, जिसमें आप कुछ नहीं कर सकते, आपको सिर्फ यही लगता है कि आप आउट हो जाओंगे। ’’