Virat Kohli: Inspired by Cheteshwar Pujara’s concentration levels and will to play long innings
विराट कोहली-चेतेश्वर पुजारा © AFP

श्रीलंका के खिलाफ तीसरे टेस्ट में आउट होने से पहले विराट कोहली ने शानदार 243 रन बनाए थे। कोहली के टेस्ट करियर का ये छठां दोहरा शतक है। भारतीय कप्तान ने अपने साथी खिलाड़ी चेतेश्वर पुजारा को अपनी इस शानदार पारी की प्रेरणा बताया है। उनका कहना है कि केवल वो ही नहीं बल्कि पूरी टीम पुजारा से प्रभावित है। दरअसल पुजारा ने बीसीसीआई टीवी के लिए विराट कोहली का इंटरव्यू लिया है, जिस दौरान उन्होंने ये बयान दिया। कोहली ने अपने दोहरे शतक के बारे में बात करते हुए कहा, “ये काफी बेहतरीन एहसास है। मेरी मानसिकता हमेशा से बड़े शतक बनाने की थी, कुछ ऐसा जैसा मैने आपको हमेशा ही करते हुए देखा है और सीखा है कि किस तरह लंबे समय तक ध्यान लगाकर बल्लेबाजी की जा सकती है।”

पुजारा की एकाग्रता से प्रभावित है पूरी टीम

कोहली ने आगे कहा, “हमने पुजारा की लंबी पारियों, उसकी एकाग्रता और लगातार बल्लेबाजी करते रहने की मजबूत इच्छा से काफी कुछ सीखा है। इसलिए मैं भी टीम के लिए ज्यादा से ज्यादा देर तक बल्लेबाजी करने के लिए प्रभावित हुआ। अब मैं केवल ये सोचता हूं कि कैसे टीम के लिए ज्यादा समय तक बल्लेबाजी करूं और आप जानते हैं कि इससे आपको बिल्कुल थकान नहीं महसूस होता और आप लगातार स्थिति को देखते हुए कोशिशें करते रहते हो।”

कैसे तीनों फॉर्मेटों में फिट होते हैं कोहली

विराट कोहली ने लगातार दो पारियों में लगाए 2 दोहरे शतक, बना डाले ये 3 रिकॉर्ड्स
विराट कोहली ने लगातार दो पारियों में लगाए 2 दोहरे शतक, बना डाले ये 3 रिकॉर्ड्स

पुजारा के इस सवाल के जवाब में कप्तान ने कहा, “बतौर पेशेवर खिलाड़ी हमारे पास ज्यादा समय नहीं है। इसलिए जितना भी है उसका पूरा फायदा उठाना चाहिए और मैं हमेशा फिट रहने की कोशिश करता हूं, अपनी डाइट का ध्यान रखता हूं, ट्रेनिंग पर ध्यान देता हूं और अभी तक मुझे इसका फायदा मिल रहा है। मेरे करियर के दूसरे हिस्से में मुश्किलें बढ़ने वाली हैं इसलिए मैं अभी ज्यादा से ज्यादा ट्रेनिंग करना की कोशिश करता हूं ताकि बाद में मैं इसी तरह की ताकत बरकरार रख सकूं। लेकिन मुझे लगता है कि हम सब कड़ी ट्रेनिंग करते हैं और ये मैदान पर दिखाई देता है, मैं भी वही करने की कोशिश कर रहा हूं।”

कोहली ने ये भी बताया कि कैसे 2012 के आईपीएल के बाद उन्हें एहसास हुआ कि उन्हें अपनी फिटनेस पर काम करने की जरूरत है। तब से कोहली फिटनेस को लेकर कोई लापरवाही नहीं बरतते और इसका सकारात्मक प्रभाव उनके करियर पर भी दिख रहा है।