इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट में भारतीय टीम की हार के बाद एक बार फिर विराट कोहली (Virat Kohli) के आलोचकों को उनकी कप्तानी पर फूट पड़ने का मौका मिल गया है. पहले टेस्ट मैच में हार के बाद ही यह मांग जोर पकड़ने लगी कि अब समय आ गया है, जब विराट कप्तानी लेकर अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) को दी जाए. इस बीच विराट को पूर्व भारतीय चयनकर्ता और टीम इंडिया के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज किरण मोरे (Kiran More) का समर्थन मिला है. मोरे ने कहा कि विराट की कप्तानी पर चर्चा के लिए यह वक्त सही नहीं और इस वक्त टीम को इंग्लैंड के खिलाफ बाउंस बैक की ओर देखना चाहिए.

विराट की कप्तानी में यह भारतीय टीम की लगातार चौथी हार है. पिछले साल भारत न्यूजीलैंड दौरे पर दोनों टेस्ट हारा था. इसके बाद विराट की ही कप्तानी में टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया दौरे पर एडिलेड में हार गई थी. एडिलेड टेस्ट के बाद कप्तान विराट कोहली पैटरनिटी लीव पर भारत लौट आए और बाकी सीरीज में अजिंक्य रहाणे ने टीम की कमान संभाली और भारत को ऑस्ट्रेलिया में शानदार जीत दिलाई.

रहाणे की कप्तानी में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में तब सीरीज जीत जब उसकी प्रमुख टीम के ज्यादातर खिलाड़ी टीम में मौजूद नहीं थे. कप्तान कोहली छुट्टियों पर थे, जबकि टीम के करीब 7 से 8 खिलाड़ी चोटिल होकर बाहर हो गए थे. रहाणे की इसी कप्तानी के दम पर विराट के आलोचकों को उन पर धावा बोलने का मौका मिल गया है.

पूर्व चयनकर्ता किरण मोरे हालांकि विराट को ही कप्तान बनाए रखने के पक्ष में हैं. खेल वेबसाइट स्पोर्ट्सकीड़ा से बात करते हुए मोरे ने कहा, ‘विराट कोहली नंबर 1 खिलाड़ी हैं. वह सर्वश्रेष्ठ हैं. उनकी कप्तानी पर बहस करना अभी जल्दबाजी होगी. विराट को उनकी ईमानदारी के लिए जाना जाता है. वह बेहतर जानते हैं कि कप्तानी कब छोड़नी है. बिल्कुल वैसा ही जैसा एमएस धोनी (MS Dhoni) ने किया था.’

58 वर्षीय मोरे ने कहा, ‘भारतीय टीम ने इस बार ऑस्ट्रेलिया में शानदार प्रदर्शन किया. लेकिन कोहली की कप्तानी में भी हम सीरीज जीतकर आए थे. इस वक्त हमारी ऊर्जा अगला टेस्ट मैज जीतने पर लगनी चाहिए. मुझे लगता है भारत सीरीज में वापसी करेगा. ऑस्ट्रेलिया के लंबे दौरे के बाद टीम इंडिया इन परिस्थितियों में एक टेस्ट खेल चुकी है. अब हमारे बॉलर्स यहां बेहतरीन बॉलिंग करेंगे और हमारे बल्लेबाज जेम्स एंडरसन, जोफ्रा आर्चर और उनके बाकी बॉलरों का बेहतर ढंग से सामना करेंगे.’

मोरे ने कहा, ‘कोई भी कप्तान मैच हारना नहीं चाहता है. लगातार 4 टेस्ट हारने के बाद विराट पर कुछ दबाव तो जरूर होगा. वह भी जरूर इस बारे में सोच रहे होंगे. मेरी राय में मैं फिलहाल टीम इंडिया का कप्तान बदलने के बारे में नहीं सोचूंगा. अगर हम अगला टेस्ट मैच हार जाते हैं तब विराट पर काफी दबाव होगा और इसके बाद कप्तानी को लेकर चर्चाएं और तेज हो सकती हैं.’