virat kohli might be tired and break from the game might help him

नई दिल्ली: ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग का मानना है कि विराट कोहली जिस दौर से गुजर रहे हैं वह हर क्रिकेटर के जीवन में कभी न कभी जरूर आता है। पोंटिंग ने कहा कि कोहली ने लगातार 10 या 12 साल लगातार अच्छा खेला है। और उनके जीवन में बहुत कम ऐसा वक्त आया है जब वह फॉर्म से बाहर रहे हों। बतौर क्रिकेटर अपने अनुभवों का जिक्र करते हुए पोटिंग ने कहा कि कई बार खिलाड़ी के लिए भी यह समझना मुश्किल होता है कि मानसिक या शारीरिक रूप से थका हुआ है। और वह फॉर्म में वापस आने के लिए ट्रेनिंग करता रहता है। और आखिरकार वह ब्रेक लेता है।

पोंटिंग ने आईसीसी रीव्यू के एपिसोड में कहा, ‘खराब फॉर्म हर किसी के साथ कभी न कभी आती है। विराट ने शायद 10 या 12 साल के करियर में बहुत कम खराब फॉर्म देखी है।’

उन्होंने आगे कहा, ‘लेकिन आईपीएल के दौरान बहुत बातें और उदाहरण दिए जा रहे थे कि वह कितना थका हुआ और बर्न्टआउट हो सकता है। यह उनका काम है कि वह इसका पता लगाएं और खुद को बेहतर बनाने के रास्ते निकालें। फिर चाहे यह तकनीकी मामला हो या फिर मानसिक रूप से कुछ करने की जरूरत हो।’

उन्होंने आगे कहा, ‘मुझे पूरा यकीन है कि जिस तरह के पक्के प्रफेशनल वह हैं वह बहुत जल्दी इसका हल निकाल लेंगे और उस पर काम करेंगे।’

खुद का उदाहरण देते हुए पोंटिंग ने कहा, ‘एक चीज मैं अनुभव से जानता हूं कि कई बार एक खिलाड़ी के तौर पर आप खुद को धोखा देते हैं कि आप असल में थके हुए नहीं हैं, आप मानसिक या शारीरिक रूप से थके हुए नहीं हैं। आप हमेशा ट्रेनिंग करने के रास्ते तलाशते रहते हैं। आप खुद को मैच खेलने के लिए तैयार करते रहते हैं। पर असल में जब आप रुकते हैं तो एक-दो दिन बाद आपको अहसास होता है कि आप कितना थके हुए हैं।’

उन्होंने कहा, ‘तो शायद विराट कोहली भी फिलहाल उसी स्थिति में हैं लेकिन मुझे पूरा यकीन है कि कोहली का यह खराब दौर बहुत ज्यादा लंबा नहीं चलेगा।’