Virat Kohli on No ball controversy: We are playing at the IPL level, not club cricket. Umpires should have had their eyes open
Virat Kohli @ BCCI

इंडियन टी20 लीग के सातवें मुकाबले में मुंबई की टीम बैंगलुरू पर छह रन से जीत दर्ज करने में कामयाब जरूर रही, लेकिन आखिरी गेंद को नो बॉल नहीं दिए जाने को लेकर विवाद खड़ा हो गया। मैच के बाद बैंगलुरू के कप्‍तान विराट कोहली ने लसिथ मलिंगा के ओवर की आखिरी गेंद को नो बॉल नहीं दिए जाने पर अपनी नाराजगी जाहिर की।

पढ़ें: इंडियन टी-20 लीग में राशिद के खिलाफ नेट पर अभ्यास करना चाहते हैं गुप्टिल

लसिथ मलिंगा के ओवर की आखिरी गेंद पर जीत के लिए बैंगलुरू को सात रन की दरकार थी। बैंगलुरू के बल्‍लेबाज शिवम दुबे इस गेंद पर छक्‍का लगाने में कामयाब हो जाते तो मैच सुपर ओवर में चला जाता। हालांकि इस गेंद पर महज एक रन ही आया। मैच के बाद आखिरी गेंद का रिप्‍ले देखने पर पता चला कि ये नो बॉल थी।

विराट ने मैच के बाद कहा, “हम आईपीएल के स्‍तर पर क्रिकेट खेल रहे हैं। ये कोई क्‍लब क्रिकेट का मैच नहीं है। अंपायर को अपनी आंखें खुली रखकर अंपायरिंग करनी चाहिए थी। आखिरी गेंद को नो बॉल नहीं दिया जाना बेहद हास्‍यास्‍पद स्थिति है। खासतौर पर ऐसे समय में जब मैच का नतीजा मामूली अंतर पर टिका हुआ हो। मुझे नहीं पता कि क्‍या हो रहा है। उन्‍हें ज्‍यादा सावधान रहते हुए अंपायरिंग करनी चाहिए थी।”

पढ़ें: विराट कोहली ने इंडियन टी-20 लीग में सबसे तेज 5, 000 रन पूरे किए

बैंगलुरू के कप्‍तान ने कहा, “जब हम 147/7 पर थे, हमें अच्‍छी बल्‍लेबाजी करनी चाहिए थी। आखिरी में चीजें हमारे लिए काफी क्रूर साबित हुए। एबी डिविलियर्स के अलावा दूसरे छोर से भी  रन बनाए जाते तो स्थिति अलग होती। डेथ ओवर्स के समय हमें स्‍मार्ट क्रिकेट खेलना चाहिए था। मुझे लगता है जिस तरह से मुंबई की टीम ने गेंदबाजी की है उससे हमें काफी कुछ सीखने को मिलेगा। हार के लिए हमारी टीम के हर खिलाड़ी को अपनी जिम्‍मेदारी लेनी होगी। शिवम ने अच्‍छा खेल दिखाया। जसप्रीत बुमराह एक टॉप क्‍लास गेंदबाज हैं।”