Virat Kohli: One of top three has to big one; Today was my opportunity to step up
विराट कोहली (IANS)

करीबन पांच महीनों और दो दिन के अंतर के बाद भारतीय बल्लेबाज विराट कोहली के शतकों का सूखा आखिर खत्म हुआ। मार्च में रांची वनडे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 123 रन की शानदार पारी खेलने के बाद कोहली ने रविवार को वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में 120 रनों की मैचविनिंग पारी खेली।

जाहिर है कप्तान कोहली अपने बल्लेबाजी प्रदर्शन से बेहद खुश हैं लेकिन उससे भी कहीं बढ़कर विराट को इस बात की खुशी है कि वो टीम को जीत दिला सके। कोहली का कहना है कि टीम इंडिया की जीत के लिए रोहित शर्मा, शिखर धवन और उनमें से किसी एक का लंबी पारी खेलना जरूरी है। और जब पोर्ट ऑफ स्पेन वनडे में रोहित-शिखर सस्ते में आउट हो गए तो कप्तान पर पारी की पूरी जिम्मेदारी आ गई, जिसे उन्होंने बखूबी निभाया।

कप्तान ने कहा, “जब टीम को जरूरत हो तब शतक लगा पाना अच्छा लग रहा है। शिखर और रोहित बड़ी पारी नहीं खेल पाए। शीर्ष तीन में किसी एक को हमेशा बड़ी पारी खेलनी होती है। किसी सीनियर बल्लेबाज को आगे आना होता है और आज ये मौका मेरे पास था।”

विराट के शतक, भुवी के 4-विकेट हॉल से भारत ने दूसरा वनडे जीता

मैच के बाद कोहली ने कहा, “बल्ले के साथ अच्छा दिन रहा, इसी वजह से हम पहले बल्लेबाजी करना चाहते थे। अगर आपने देखा तो आप जानते होंगे कि वेस्टइंडीज की पारी के दूसरे भाग में बल्लेबाजी करना मुश्किल था। मुझे लगता है कि बीच में हुई बारिश ने उन्हें मदद की वर्ना बीच के ओवरों में बल्लेबाजी करना बेहद कठिन होता। हमें पता था कि 270 से ऊपर कुछ भी चनौतीपूर्ण स्कोर होगा।”

बारिश से प्रभावित इस मैच में डीएलएस नियम के आधार पर भारतीय टीम ने 59 रन से जीत हासिल कर तीन मैचों की सीरीज में 1-0 से बढ़त बना ली। कप्तान ने इस जीत का श्रेय स्पिन गेंदबाजों, खासकर कुलदीप यादव को दिया। उन्होंने कहा, “जब हेटमायर और पूरन खेल रहे थे तो बारिश की वजह से बल्लेबाजी करना आसान हो गया। गेंद जितना बार आउटफील्ड में जो रही थी, उसे पकड़ना और मुश्किल हो रहा था। बात केवल टिके रहने और ये उम्मीद करने की थी कि एक विकेट गिरने से उन पर दबाव बनेगा और खुशकिस्मती से हमें विकेट मिला।”

पढ़ें:- विराट कोहली के शतक पर सोशल मीडिया पर फैन्‍स ने दी मजेदार प्रतिक्रिया..

कप्तान ने आगे कहा, “उनकी टीम में बाएं हाथ के बल्लेबाजों की संख्या कुलदीप के पक्ष में घई और यही कारण था कि हमने चहल के ऊपर उसे चुना। वो अपने वैरिएशंस और लाइन की वजह से बाएं हाथ के बल्लेबाजों के खिलाफ खतरनाक है। केदार भी सटीक था। उनकी टीम में बाएं हाथ के बल्लेबाजों को देखते हुए, आप लेग स्पिनर की बजाय चाइनामैन गेंदबाजों के साथ जाते। जडेजा के खेलने से हमें टीम में संतुलन बनाने में मदद मिली।”

कप्तान ने युवा बल्लेबाज श्रेयस अय्यर की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, “वो आत्मविश्वास से भरा हुआ है और उसका स्वभाव सही है। उसने रनों की गति को बढ़ाया और मुझ पर से दबाव हटाया। जब मैं आउट हुआ, तो उसने वो अतिरिक्त रन भी निकाले।”