© AFP
© AFP

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज़ में हार के बाद अपनी टीम की प्रतिबद्धता पर सवाल उठाये और कहा कि फील्डिंग में लगातार गलतियां और बल्लेबाजों का आसानी से विकेट गंवाना कतई मंजूर नहीं है। कोहली ने संवाददाता सम्मेलन में जहां दो सवालों पर पत्रकारों से बहस की वहीं पहले दो टेस्ट मैचों में गलतियां दोहराने के लिये अपनी टीम की भी खिंचाई की। उन्होंने भारत की दूसरे टेस्ट मैच में 135 रन से हार के बाद कहा, ‘‘आखिर में एक टीम को हारना होता है। एक टीम के रूप में आप हमेशा जीत की कोशिश करते हो। आप हार स्वीकार कर सकते हो लेकिन जिस तरह से हम खेले वैसे नहीं, जिस तरह से हमने मौके गंवाये वह टीम के नजरिये से मंजूर नहीं है। ’’

कोहली ने कहा, ‘‘कई बल्लेबाजों ने आसानी से अपने विकेट गंवाये। क्योंकि आप इतनी कड़ी मेहनत करते हो, मैच के लिये तैयार होते हैं, अच्छी स्थिति में पहुंचते हो, मैच को अपनी तरफ मोड़ते हो लेकिन तभी इन गलतियों से पासा पलट जाता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने दोनों मैचों में गलतियां दोहरायी। एक टीम के रूप में इससे बहुत बुरा लगता है।’’कोहली ने कहा कि खिलाड़ियों को खुद से सवाल करना होगा कि गलती कहां हुई। उन्होंने कहा, ‘‘हम जिस तरह से खेले हम यहां उस तरह से खेलने के लिये नहीं आये हैं। हमें खुद से पूछने की जरूरत है कि क्या गेंदबाजी करते समय या बल्लेबाजी करते समय या फील्डिंग करते समय हमने हर समय अपना 120 प्रतिशत दिया।’’

सेंचुरियन टेस्ट: भारत की 135 रनों से हार, सीरीज़ भी गंवाई
सेंचुरियन टेस्ट: भारत की 135 रनों से हार, सीरीज़ भी गंवाई

कोहली ने कहा, ‘‘हमने जो गलतियां की वे असल में खेल के अहम चरणों में पूरी तरह से ध्यान केंद्रित नहीं करने से जुड़ी है। यह ऐसी हैं जिस पर हमें गौर करने और टीम के रूप में चर्चा करने की जरूरत है। ’’ कोहली से पूछा गया क्या टीम उन पर बहुत अधिक निर्भर हो गयी है, उन्होंने कहा, ‘‘मैं ऐसा नहीं मानता। ड्रेसिंग रूम में कोई ऐसा नहीं सोचता। मैदान पर 11 खिलाड़ी होते हैं। मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करता हूं और अन्य खिलाड़ी भी। ’’