Advertisement

क्या विराट कोहली का बल्ला तय करेगा बॉर्डर-गावस्कर सीरीज का नतीजा, जान लीजिए आंकड़े

क्या विराट कोहली का बल्ला तय करेगा बॉर्डर-गावस्कर सीरीज का नतीजा, जान लीजिए आंकड़े

विराट कोहली का प्रदर्शन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कैसा रहा है यह बहुत मायने रखता है. लेकिन आंकड़ों की एक तस्वीर दूसरी भी है. जो, भारतीय नहीं बल्कि ऑस्ट्रेलिया के लिए फायदेमंद है.

Updated: February 6, 2023 3:19 PM IST | Edited By: Bharat Malhotra
विराट कोहली की फॉर्म भारत और ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज के नतीजे पर असर डाल सकती है. कोहली हाल ही में सीमित ओवरों के फॉर्मेट में धमाकेदार वापसी कर चुके हैं. और अब इंतजार है टेस्ट क्रिकेट में उन्हें दोबारा अपनी लय हासिल करने का. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोहली का पिछला रिकॉर्ड अच्छा रहा है. कोहली ने कंगारू टीम के खिलाफ 20 टेस्ट मैचों की 36 पारियो में 1682 रन बनाए हैं. उनका बल्लेबाजी औसत 48.05 का रहा है. कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सात सेंचुरी और पांच हाफ सेंचुरी भी लगाई हैं.

कोहली के करियर की कुछ बेहतरीन पारियां ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उसी की सरजमीं पर बनी हैं. साल 2011-2012 में भारत के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ जैसे दिग्गज बल्लेबाज खुलकर नहीं खेल पा रहे थे तब 23 साल के कोहली ने धमाकेदार खेल दिखाया था. भारतीय टीम वह सीरीज 0-4 हारी थी. लेकिन कोहली इकलौते भारतीय बल्लेबाज थे जिन्होंने 300 से ज्यादा रन बनाए थे. इसमें पैट कमिंस, जोश हेजलवुड जैसे गेंदबाजों के सामने एडिलेड टेस्ट में बनाए गए 116 रन भी शामिल थे.

ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ कोहली का शानदार प्रदर्शन 2014-2015 के दौरे में भी जारी रहा. इस सीरीज में भारत ने दो मैच ड्रॉ करवाए. इसी सीरीज में कोहली को टेस्ट फॉर्मेट की कप्तानी भी मिली. महेंद्र सिंह धोनी ने टेस्ट सीरीज के बीच में ही क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट से संन्यास लेनेका ऐलान कर दिया. कोहली ने चार मैचों की सीरीज में 692 रन बनाए. उन्होंने आठ पारियो में 86.50 के औसत से रन बनाए. इस दौरान उन्होंने चार सेंचुरी और एक हाफ सेंचुरी लगाई. उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 169 का रहा.

साल 2018-19 की बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में विराट कोहली ने बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं किया. पर कोहली ने अपना सर्वश्रेष्ठ पर्थ की पिच के लिए बचाकर रखा. भारतीय टीम नाथन लाथन की फिरकी के सामने काफी परेशान दिखी. विराट ने 257 गेंद पर 123 रन की पारी खेली. हालांकि वह भारत को 146 रन की हार से बचा नहीं सके लेकिन इस पारी को लंबे समय तक याद किया जाता है. कोहली ने सात पारियों में 282 रन बनाए. उनका औसत रहा 40.28. इसमें एक सेंचुरी और एक हाफ सेंचुरी थी.

तो, ऑस्ट्रेलिया की बात करें तो उसके घरेलू मैदानों पर विराट ने 13 मैचों में 54.08 की औसत से 25 पारियों में 1352 रन बनाए हैं. इसमें छह सेंचुरी और चार हाफ सेंचुरी शामिल हैं.

घरेलू परिस्थितियों की बात करें तो विराट का प्रदर्शन उतना अच्छा नहीं रहा है. कोहली ने सात मैचों में 330 रन बनाए हैं. भारत में ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच सीरीज की बात करें तो पहली बार 2012-13 में बॉर्डर-गावस्कर सीरीज खेली गई. इस सीरीज में मुरली विजय ने सबसे ज्यादा 430 रन बनाए. इसके अलावा चेतेश्वर पुजारा ने 419 रन बनाए थे. कोहली ने चार मैचों की छह पारियों में 284 रन बनाए थे. उनका बल्लेबाजी औसत 56.80 का रहा था. उन्होंने 107 और नाबाद 67 रन की पारियां खेली थीं जिनसे उनका बल्लेबाजी औसत सुधरा. कोहली ने 2016-17 में सिर्फ 46 रन बनाए.

अब ऑस्ट्रेलियाई टीम को उम्मीद होगी कि कोहली का उनके खिलाफ प्रदर्शन ऐसा ही रहे वहीं टीम इंडिया और उसके फैंस चाहेंगे कि कोहली सफेद गेंद के अपने प्रदर्शन को लाल गेंद से भी दोहरा सकें. से हासिल की गई अपनी फॉर्म को लाल गेंद से भी दोहरा सकें.
Advertisement

LIVE SCOREBOARD

Advertisement