Virat Kohli reveals about his favourate moment in life
Virat Kohli @ Twitter/ ICC

भारतीय कप्तान विराट कोहली के अभी तक के चमकदार करियर में भले ही कितनी भी उपलब्धियां शामिल हों लेकिन बुधवार को उन्होंने कहा कि 2008 में राष्ट्रीय टीम के लिये चुना जाना हमेशा उनके पसंदीदा क्षणों में शुमार रहेगा।

कोहली इस समय टेस्ट और वनडे प्रारूप दोनों में दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी हैं। उन्होंने यहां ‘ऑडी’ कार लांच कार्यक्रम के मौके पर कहा, ‘‘वह क्षण जो मेरे लिये हमेशा विशेष रहेगा, वो भारतीय टीम में चुने जाने का था। मैं अपनी मां के साथ घर पर खबरें देख रहा था, मुझे कहीं से कोई खबर नहीं मिल रही थी और अचानक से मेरा नाम आया तो मुझे पता नहीं चला कि क्या करूं।’’

पढ़ें:- मुंबई में हार के बाद टीम इंडिया को एक और झटका- राजकोट नहीं जाएंगे रिषभ पंत

उन्होंने कहा, ‘‘मैं हैरान हो गया, मुझे पता नहीं चल रहा था कि बैठ जाऊं, खड़ा हो जाऊं, दौड़ने लंगू या फिर कूदने लगूं। मुझे लगता है कि यही ऐसा क्षण रहेगा जो मेरा पसंदीदा पल होगा।’’ कोहली उस साल अंडर-19 विश्व कप विजेता टीम के कप्तान थे और इसी साल उन्होंने सीनियर टीम में जगह बनायी थी।

उन्होंने कहा, ‘‘जब आप राष्ट्रीय टीम के लिये खेलते हो तो टूर्नामेंट या श्रृंखलायें उपलब्धियां बन जाती हैं। लेकिन आपने जो कड़ी मेहनत की होती है, उसे देखते हुए आठ साल की उम्र से खेलना शुरू करते हुए अपने देश का प्रतिनिधित्व करना, ऐसा अहसास है जिसे आप दोबारा महसूस नहीं कर सकते।’’

पढ़ें:- टीम इंडिया के साथ अभ्यास करते दिखे पांड्या, वापसी की उम्मीद बढ़ी

कोहली ने कहा, ‘‘राष्ट्रीय टीम के लिये शुरूआत करने वाला पल मेरे लिये अहम होगा क्योंकि इससे आपको इससे प्रेरणा मिलती है और इससे मेरे पैर जमीन पर रहते हैं और मुझे यह याद रहता है कि मैं कहां से आया हूं।’’

इस शानदार बल्लेबाज ने वनडे में 11,000 से ज्यादा रन जुटाये हैं और टेस्ट में भी 7,000 से ज्यादा रन बना चुके हैं। उनका खेल के सभी तीनों प्रारूप में औसत 50 से ज्यादा का है। उनके टेस्ट और वनडे प्रारूप में मिलाकर 70 शतक हैं।