भारतीय टीम (Team India) के कप्‍तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने वर्ल्‍ड टेस्‍ट चैंपियनशिप (ICC World Test Championship 2021) के फाइनल से पहले इंग्‍लैंड की धरती पर (India Tour of England) रन बनाने में विफल होने पर अपनी परेशानी को लेकर खुल का बात की. विराट कोहली ने बताया कि कैसे ऑस्‍ट्रेलिया टूर ने इंग्‍लैंड में खेलने के लिए उनके माइंडसेट को बदल दिया.

हॉट स्‍टार एप के साथ अनौपचारिक बातचीत के दौरान विराट कोहली (Virat Kohli) ने बेहद हल्‍के फुल्‍के अंदाज में कहा, “जून 2018 तक में इंग्‍लैंड में डिजास्‍टर (आपदा) था, लेकिन अगस्‍त आते ही मैं वहां मास्‍टर (उस्‍ताद) हो गया.”

2014 में इंग्‍लैंड में अपने खराब प्रदर्शन के बारे में बताते हुए विराट ने कहा, “करीब एक डेढ़ साल तक मैं ये सोचता रहा कि कैसे इस टूर पर प्रदर्शन को सुधारा जा सकता है. मैंने वहां 150 रन तक नहीं बनाए थे. लिहाज मैं काफी निराश था.

विराट कोहली (Virat Kohli) ने कहा, “ऑस्‍ट्रेलिया का दौरा करने के बाद मैंने निर्णय किया था कि अगर मैंने इंग्‍लैंड में कभी रन नहीं भी बनाए तो भी चलेगा. मुझे हर जगह जाकर खुद को साबित करने की जरूरत नहीं है.”

विराट (Virat Kohli) बोले, “जब 2018 में हम गए तो हमारी सोच एक दम सही थी. मैं वहां अपने अहम (इगो) के साथ नहीं गया था कि मुझे सभी को दिखा देना है. मैंने सोचा था कि मैं वहां की कंडीशन का सम्‍मान करूंगा. अगर में एक मूर्ख लगता हूं तो भी ठीक है. मैं पहले सेट होऊंगा, फिर खेलूंगा.”