Virat Kohli says Rohit Sharma will be given enough chances as opener
Rohit Sharma (File Photo) @ AFP

भारतीय टीम के कप्‍तान विराट कोहली का मानना है कि टेस्‍ट क्रिकेट में सलामी बल्‍लेबाज के तौर पर रोहित शर्मा में अपने समय के विस्‍फोटक बल्‍लेबाज वीरेंद्र सहवाग की जगह लेने की क्षमता है।

जब पूछा गया कि टीम मैनेजमेंट रोहित को पांच से छह मौके बतौर ओपनर देना चाहता है तो विराट ने कहा, “हम किसी जल्‍दबाजी में नहीं हैं।  आप घरेलू सीरीज और विदेशी धरती पर अलग-अलग पैटर्न का इस्‍तेमाल करते हो। सलामी बल्‍लेबाजी ऐसी जगह है जहां आपको एक खिलाड़ी को सेट होने के लिए पर्याप्‍त जगह दिए जाने की जरूरत है।  रोहित शर्मा को उनका खेल पहचानने और सेट होने के लिए पर्याप्‍त समय दिया जाएगा।”

पढ़ें:- विशाखापत्‍तनम टेस्‍ट से रिषभ पंत की छुट्टी, रिद्धिमान साहा को मिला मौका

विराट कोहली ने कहा, “अगर वो बतौर सलामी बल्‍लेबाज टेस्‍ट क्रिकेट में कामयाब होते हैं तो हमारा बल्‍लेबाजी आक्रमण काफी घातक हो जाएगा।  रोहित की क्षमता का खिलाड़ी मिल पाना काफी मुश्किल काम है। अगर वो कामयाब होते हैं तो हमारा बल्‍लेबाजी क्रम पूरा हो जाएगा और यह क्रम दुनिया की अन्‍य टीमों के बल्‍लेबाजी क्रम से काफी अलग होगा।”

विराट ने कहा, “अगर रोहित शर्मा अपने समय के विस्‍फोटक बल्‍लेबाज वीरेंद्र सहवाग की जगह भारतीय टीम में भर सकते हैं तो इससे अच्‍छा क्‍या हो सकता है।  हालांकि हम ओपनिंग के लिए किसी विशेष तरह के स्‍टाइल में खेलने वाले खिलाड़ी की तलाश नहीं कर रहे हैं। ”

पढ़ें:- IPL 2020 Auction, Date, Shedule: बीसीसीआई ने जारी किया नीलामी का बजट व शेड्यूल

“मैंने जब अपने टेस्‍ट करियर की शुरुआत की थी तो मैं नंबर-6 पर खेलता था।  बाद में नंबर-4 पर बल्‍लेबाजी करने लगा।  यह केवल मानसिकता का खेल है।  अगर आप खुद को समझा सकते हैं तो आप वो काम कर सकते हैं।  टेस्‍ट क्रिकेट में आपको अपना खेल अलग-अलग कंडीशन में जांचना  होता है। ”

विराट ने कहा, “हमें रोहित से किसी विशेष प्रकार के खेल की उम्‍मीद नहीं है।  यह उनके ऊपर है कि वो टॉप ऑर्डर में खुद को किस तरह देखना चाहते हैं।  रोहित के अंदर काबिलियत है कि वो वीरू भाई की तर्ज पर ही लंबे समय तक गेम को आगे लेकर जा सकें।  वीरू भाई को किसी को कहना नहीं पड़ता था कि उन्‍हें लंच से पहले 100 रन बनाने हैं।  उनका खेलने का अंदाज ही कुछ ऐसा था।  जब वो सेट हो जाते थे तो विरोधी टीम के गेंदबाजी क्रम की धज्जियां उड़ा देते थे।