Virat Kohli says there is no utility of practice games if you are not provided quality opposition
virat kohli © Getty Images

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली  ने टेस्ट सीरीज शुरू होने से पहले खेले जाने वाले टूर मैचों की उपयोगिता पर सवाल उठाए हैं।

कोहली ने कहा है कि टेस्ट सीरीज से पहले आदर्श स्थितियां और अच्छी विरोधी टीम नहीं दी जाती है तो अभ्यास मैचों के कोई मायने नहीं है।

भारत को दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड से लगातार दो सीरीज में हार का सामना करना पड़ा है। इसके बाद सुनील गावस्‍कर समेत पूर्व खिलाड़ियों ने अभ्यास मैचों की संख्या कम रहने पर सवाल उठाए हैं।

सोनी लिव पर माइकल होल्डिंग को दिए इंटरव्यू में कोहली ने कहा, ‘लोग अभ्यास मैचों की बात करते हैं लेकिन अहम सवाल यह है कि ये मैच कहां हो रहे हैं और विरोधी टीम का गेंदबाजी आक्रमण कैसा है।’

उन्होंने कहा, ‘ कई लोग टूर गेम्स के बारे में बात कर रहे हैं लेकिन वे टूर गेम्स कहां हो रहे हैं और किस तरह के गेंदबाजी आक्रामण के खिलाफ हो रहे हैं यह बहुत जरूरी है।’

भारतीय कप्तान ने कहा कि अगर टेस्ट सही से पहले जरूरी तैयारी नहीं मिल पाती है तो इन मैचों के कोई मायने नहीं है। अच्छी विरोधी टीम सामने होने पर ही अभ्यास मैच उपयोगी होते हैं।

उनसे जब पूछा गया कि इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय टीम से कहां चूक हुई तो भारतीय कप्तान ने दो महत्वपूर्ण अवसरों की ओर ध्यान दिलाया। कोहली ने एजबेस्टन टेस्ट में भारत की दूसरी पारी और साउथम्पटन (चौथा टेस्ट) का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि फिलहाल मैं इन पारियों के बारे में ही सोच पा रहा हूं।

(इनपुट-एजेंसी)