Virat Kohli should pick players consistently, says Sourav Ganguly
सौरव गांगुली, विराट कोहली (AFP Photo)

प्लेइंग इलेवन में लगातार बदलाव करना विराट कोहली की कप्तानी का हिस्सा है हालांकि पूर्व कप्तान सौरव गांगुली इससे सहमत नहीं हैं। भारत के सबसे सफल कप्तानों में से एक गांगुली का मानना है कि कोहली को खिलाड़ियों को लगातार मौके देने चाहिए और अपनी बल्लेबाजी की तरह कप्तानी में निरंतरता दिखानी चाहिए।

मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा, “ये एक एरिया है जहां विराट को और निरंतर होने की जरूरत है- खिलाड़ियों को चुने और उन्हें लगातार मौके दें ताकि वो लय और आत्मविश्वास हासिल कर सकें। मैंने पहले भी ये कहा है। आपने देखा कि श्रेयस अय्यर ने वनडे सीरीज में कैसा प्रदर्शन किया। आपने उसे चुना और उसे मैच खेलने की पूरी आजादी दी। मुझे लगता है कि और भी कई खिलाड़ियों के साथ ऐसा करने की जरूरत है और मुझे यकीन है कि विराट ऐसा करेगा।”

गांगुली से पहले कई और पूर्व खिलाड़ी वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट की प्लेइंग इलेवन से सीनियर स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को बाहर रखने के कोहली और टीम मैनेजमेंट के फैसले की आलोचना कर चुके हैं। हालांकि गांगुली ने अश्विन के साथ साथ चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव को एंटीगा टेस्ट में मौका ना मिलने पर हैरानी जताई।

एंटीगा टेस्ट: इशांत के ‘पंच’ से मेजबान वेस्टइंडीज बैकफुट पर

उन्होंने कहा, “हां, मैं कुलदीप को बाहर किए जाने से भी हैरान था, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उसने जो आखिरी मैच खेला था, वहां उसने सिडनी की अच्छी सपाट पिच पर पांच विकेट लिए थे। लेकिन जडेजा भी अच्छे फॉर्म में है। एंटीगा में कल जो सतह थी वो तीन तेंज गेंदबाजों वाली थी क्योंकि हमने देखा कि पेसर्स को कितना सीम मूवमेंट मिल रहा था।”

कुलदीप-अश्विन के नाम होने से गांगुली निराश जरूर हैं लेकिन उन्हें यकीन है कि जडेजा इस पिच पर सफल साबित होंगे। पूर्व कप्तान ने कहा, “अगले कुछ दिनों में हम देखेंगे कि इस सतह पर जडेजा कितने विकेट लेता है। क्योंकि जैसे जैसे खेल आगे बढ़ेगा ये पिच ऊपर-नीचे होगी। हम ये देखने का इंतजार करना होगा लेकिन मैं कहूंगा कि यही भारतीय क्रिकेट की प्रतिस्पर्धा का स्तर है।”