विराट कोहली © Getty Images
विराट कोहली © Getty Images

पुणे। भारत की एकदिवसीय टीम के नए कप्तान विराट कोहली ने कहा है कि हम विपक्षी टीम को बताना चाहते थे कि 63 रनों पर चार विकेट खोने के बाद भी हम मैच से बाहर नहीं हुए हैं। भारत ने रविवार को इंग्लैंड द्वारा दिए गए 351 रनों के लक्ष्य को हासिल करते हुए मैच तीन विकेट से जीतने में सफल रहा। कोहली ने 105 गेंदों में 122 रनों और केदार जाधव ने 76 गेंदों में 120 रनों की पारी खेल भारत को जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इन दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 200 रनों की साझेदारी की।

मैच के बाद कोहली ने कहा, “हम एक-एक रन लेकर मैच नहीं जीत सकते थे। हमें अपने विपक्षी को बताना था कि हमें भरोसा है कि हम जीत सकते हैं।” उन्होंने जाधव की भी प्रशंसा की और कहा, “350 रनों का पीछा करते हुए हमने 63 रनों पर चार विकेट खो दिए थे तब हमें एक अच्छी साझेदारी की जरूरत थी।” कोहली ने कहा, “केदार ने शानदार पारी खेली। न्यूजीलैंड श्रृंखला के दौरान हमने उनकी काबिलियत देखी थी। आज नंबर छह पर आकर ऐसी पारी खेलना आसान नहीं था।” जाधव ने अपनी पारी का श्रेय कोहली को दिया है। जाधव ने कहा, “अपने घरेलू दर्शकों के सामने अपने देश के लिए मैच जीतना शानदार अहसास है।” उन्होंने कहा, “मैं ऐसा अपने कप्तान के कारण खेल सका। उन्होंने देश के लिए ऐसा कई बार किया है और मैंने कई बार ऐसे मौके गंवाए हैं। इसलिए आज मेरे पास रन बनाने का मौका था और विराट को दूसरे छोर पर देखने का भी।” [ये भी पढ़ें: पहले मैच में जीत के बाद भी इन गलतियों से टीम इंडिया को लेना होगा सबक]

इससे पहले मेहमान टीम की तरफ से सलामी बल्लेबाज जेसन रॉय ने 61 गेंदों में 12 चौकों की मदद से 73 रनों की पारी खेली। उनके अलावा जोए रूट ने 78 रनों का योगदान दिया। उन्होंने अपनी पारी में 95 गेंदे खेलते हुए चार चौके और एक छक्का लगाया। अंत में बेन स्टोक्स ने 40 गेंदों में 62 रनों का पारी खेल इंग्लैंड को विशाल स्कोर तक पहुंचाया। उन्होंने अपनी पारी में सिर्फ दो चौके लगाए, जबकि उनके बल्ले से पांच छक्के निकले। स्टोक्स ने 31 गेंदों में अर्धशतक पूरा किया। यह भारत के खिलाफ इंग्लैंड के बल्लेबाज द्वारा लगाया गया सबसे तेज अर्धशतक है। मोइन अली ने भी 17 गेंदों में 28 रनों की पारी खेल टीम को विशाल लक्ष्य तक पहुंचाया।