एमएस धोनी और विराट कोहली © Getty Images
एमएस धोनी और विराट कोहली © Getty Images

विराट कोहली ने जबसे टेस्ट की कप्तानी संभाली है तबसे उन्होंने भारतीय टीम की कायापलट कर दी है। उन्होंने टीम की मेहनत को धीरे- धीरे लेकिन मजबूती से स्थापित किया है। साथ ही टीम में आक्रामकता भरने में भी उन्होंने अहम भूमिका निभाई है जो पिछले सालों में कहीं गुम सी हो गई थी। इसलिए इसमें कोई गुरेज की बात नहीं है कि क्यों कोहली को धोनी की जगह टीम इंडिया का कप्तान बनाया गया है। वहीं जब चयनकर्ताओं ने धोनी के विकल्प के बारे में सोचा तो उन्हें कोहली के प्रदर्शन को देखते हुए ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी। अब जैसा कि उन्हें कप्तानी दी जा चुकी है तो उनकी अपनी योजनाएं होंगी जिन्हें वह भविष्य में लागू करना चाहेंगे।

हाल ही में बीसीसीआई डॉट टीवी से बातचीत में कोहली ने अपनी कप्तानी की संभावना और पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी के बारे में बातचीत की। जब उनसे बतौर कप्तान शुरुआती संभावनाओं के बारे में पूछा गया तो कोहली ने टिप्पणी की कि वह स्पेशल पल था। उन्होंने हमेशा से टीम इंडिया की ओर से खेलने का सपना देखा था। टीम की अगुआई करना हमेशा एक बड़ा प्रोत्साहन है। कोहली ने कहा, “पहली प्रतिक्रिया जाहिर है, यह मेरे जीवन का बहुत विशेष पल है, यह बहुत बड़ी जिम्मेदारी है और कुछ वैसा ही जिसे वहन करने का मैं वास्तव में इंतजार कर रहा हूं। जब ये परिवर्तन हुआ तो मुझे इसका एहसास नहीं हुआ। एक ऐसे खिलाड़ी के रूप में शुरुआत करना जो सिर्फ टीम इंडिया के लिए खेलना चाहता हो और अब तीनों फॉर्मेटों में कप्तानी की जिम्मेदारी मिलना। मैं इसके लिए बहुत आभारी हूं कि मुझे ये जिम्मेदारी दी गई।” [ये भी पढ़ें: महेन्द्र सिंह धोनी ने मुझे कई बार टीम से बाहर होने से बचाया: विराट कोहली]

उन्होंने बाद में एमएस धोनी को उनके सहयोग के लिए शुक्रिया कहा। उन्होंने धोनी के योगदान के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि किस तरह से उन्होंने भारतीय क्रिकेट को विकसित करने में मदद की। इसके अलावा धोनी ने कोहली की मदद बुद्धिमान और एक लीडर के तौर पर परिपक्व होने में भी की।

इसके बाद कोहली से धोनी की बैटिंग पोजीशन के बारे में बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि धोनी ऊपर क्रम में बल्लेबाजी करें। उन्होंने कहा कि जैसा वह खेला करते थे अगर वह वैसा ही खेलते हैं तो टीम यहां से ज्यादा अच्छा प्रदर्शन कर सकती है। कोहली ने कहा, “मैदान पर, जाहिर तौर पर, मैं उनके पास कई बार सलाह- मशविरा करने के लिए जाऊंगा। यहां तक कि अब जब मैं कप्तानी कर रहे हूंगा तो उनसे बातचीत की जाएगी और उसके बाद ही अंतिम निर्णय पर पहुंचा जाएगा अगर बल्लेबाजी के बारे में बात करूं तो अगर मैं उनसे पूछूं कि आप किस स्थान पर बैटिंग करना चाहेंगे तो मैं जानता हूं कि वह किस तरह के इंसान हैं और वह कहेंगे कि जहां भी वह बल्लेबाजी करना चाहते हैं। मैं जानता हूं कि वह वैसे हैं लेकिन मैं उनसे बैटिंग पोजीशन में ऊपर बल्लेबाजी करते हुए ज्यादा पसंद करूंगा।” टीम इंडिया को इंग्लैंड के खिलाफ पहला वनडे 15 जनवरी से खेलना है।