Virat Kohli: We had to prove something, We were extra motivated to win against Australia
विराट कोहली (IANS)

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच के लिए उनकी टीम अतिरिक्त उत्साहित थी। भारत ने ये मैच 36 रन से जीतकर इस साल के शुरू में वनडे सीरीज में हार का बदला चुकता कर दिया।

कोहली ने कहा, ‘‘हमें कुछ साबित करना था। हम आज जीत दर्ज करने के लिए ज्यादा प्रेरित थेक्योंकि हमने भारत में 2-0 से आगे होने के बाद सीरीज गंवाई थी और तब मिशेल स्टार्क भी नहीं खेल रहे थे। इसलिए अब उसके (स्टार्क) आने के बाद उनका गेंदबाजी अटैक अधिक मजबूत हो गया था।’’

उन्होंने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मैं तीनों विभागों में इससे बेहतर खेल की उम्मीद नहीं कर सकता। हमें बल्लेबाजी में उस तरह की शुरुआत मिली जैसा हम चाहते थे।’’

टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करेगी वेस्टइंडीज

भारत ने शिखर धवन (117) के शतक की मदद से पांच विकेट पर 352 रन बनाए और बाद में ऑस्ट्रेलिया को 316 रन पर आउट कर दिया। भारत ने दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया पर जीत दर्ज कर ली है लेकिन कोहली अभी से विश्व कप सेमीफाइनल के बारे में नहीं सोच रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘नहीं। मुझे लगता है कि सेमीफाइनल के बारे में सोचना अभी बहुत जल्दी होगी। मेरा मानना है कि छह मैचों के बाद हम ये समझने के लिए बेहतर स्थिति में होंगे कि हम टूर्नामेंट में किस स्थिति में हैं, तालिका में हमारी क्या स्थिति है लेकिन हमने दो मजबूत टीमों के खिलाफ जीत दर्ज की है और हम इससे बेहतर शुरुआत की उम्मीद नहीं कर सकते थे।’’

एरोन फिंच ने एडम जम्पा पर लग रहे बॉल टैंपरिंग आरोपों को किया खारिज

कोहली ने कहा, ‘‘अच्छी बात ये है कि हमें शुरू में ही सभी मजबूत टीमों का सामना करना है इसलिए जैसा मैंने मुंबई में यहां आने से पहले कहा था कि अगर हम पहले चरण में अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो हम सेमीफाइनल में पहुंचने की बेहतर स्थिति में रहेंगे।’’

भारतीय गेंदबाजी की सबसे अच्छी बात ये रही कि उसने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को 131 गेंदों पर रन नहीं बनाने दिए। जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार और युजवेंद्र चहल ने फिर से अच्छी गेंदबाजी की। इन तीनों ने मिलकर आठ विकेट लिए।

2011 विश्व कप के नायक युवराज सिंह ने किया संन्यास का ऐलान

कोहली ने कहा, ‘‘वनडे में जब आपके पास अच्छे गेंदबाज हों तो आप खाली गेंदें करते हैं क्योंकि बल्लेबाज इस तरह के गेंदबाज को वास्तव में सम्मान देता है। आपको उन्हें परिस्थिति के अनुसार गेंदबाजी करनी चाहिए और वो जानते हैं कि क्या करना है। मुझे वास्तव में इन गेंदबाजों के साथ कुछ खास रणनीति नहीं बनानी पड़ती है क्योंकि वे अपना काम अच्छी तरह से करते हैं। वे अभी अपनी सर्वश्रेष्ठ फार्म में हैं।’’