विराट कोहली और केदार जाधव © AFP
विराट कोहली और केदार जाधव © AFP

भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए पहले वनडे मैच में रिकॉर्डों की झड़ी लगाते हुए भारतीय टीम ने मुकाबले को अपने नाम कर लिया। 350 रनों के पहाड़ जैसे लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत बेहद ही घटिया रही और 70 रनों के भीतर ही टीम के 4 विकेट गिक गए। सभी बड़े खिलाड़ी पवेलियन लौट चुके थे। लेकिन नए-नवेले कप्तान विराट कोहली ने हार नहीं मानी और केदार जाधव के साथ मिलकर भारतीय टीम को ऐतिहासिक जीत दिला दी। इस दौरान कोहली ने लक्ष्य का सफल पीछा करते हुए सबसे ज्यादा शतक लगाने का गौरव प्राप्त कर लिया।

विराट कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ पहले वनडे में क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर के बड़े रिकॉर्ड को ध्वस्त करते हुए इंतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज करवा लिया। कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ शतक लगाया और अंत में टीम इंडिया ने इस मुकाबले को 3 विकेट से अपने नाम कर लिया। इसी के साथ ही कोहली लक्ष्य का सफल पीछा करते हुए सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले बल्लेबाज बन गए। इससे पहले ये रिकॉर्ड क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर के नाम था। सचिन ने लक्ष्य का सफल पीछा करते हुए 14 शतक लगाए थे।

खिलाड़ी टीम शतक पारी लक्ष्य का सफल पीछा करते हुए शतक
विराट कोहली भारत 17 96 15
सचिन तेंदुलकर भारत 17 232 14
तिलकरत्ने दिलशान श्रीलंका 11 116 9
क्रिस गेल वेस्टइंडीज 11 139 8
सईद अनवर पाकिस्तान 10 210 9
सनथ जयसूर्या श्रीलंका 10 105 9

इसके साथ ही कोहली ने लक्ष्य का पीछा करते हुए सबसे ज्यादा शतक लगाने के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। लक्ष्य का पीछा करते हुए सचिन तेंदुलकर के नाम 232 पारियों में कुल 17 शतक थे तो वहीं कोहली ने लक्ष्य का पीछा करने के दौरान बेहतरीन बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश करते हुए 15 शतक लगा दिए और उन्होंने  ये कारनामा सिर्फ 96 पारियों में ही कर डाला। साथ ही कोहली ने लक्ष्य का पीछा करने के दौरान 14 शतक डे-नाइट मैचों में लगाए हैं जो कि किसी भी बल्लेबाज के मुकाबले 6 शतक ज्यादा हैं।

साफ है कोहली की वनडे क्रिकेट में बतौर कप्तान शुरुआत धमाकेदार रही और वह इसे आगे भी जारी रखना चाहेंगे। साफ है कोहली जिस तरह से बल्लेबाजी कर रहे हैं उसे देख कर यही लग रहा है कि अगर कोहली को रोकना है तो विरोधी टीमों को कुछ खास करना होगा।