एमएस धोनी और विराट कोहली  © Getty Images
एमएस धोनी और विराट कोहली © Getty Images

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली एमएस धोनी और विराट कोहली की खुशमिजाजी से खासे प्रभावित हैं। हाल ही में कई क्रिकेट पंडितों ने कहा था कि धोनी को टी20 क्रिकेट से संन्यास ले लेना चाहिए और युवाओं को जगह देनी चाहिए। ये सभी चीजें भारत की न्यूजीलैंड के खिलाफ राजकोट टी20 में हार के साथ शुरू हुई थीं। इसके बाद विराट कोहली ने एमएस धोनी को निशाना बनाने को लेकर निंदकों पर सीधा हमला बोला था।

गांगुली इसको लेकर खासे प्रभावित नजर आए। उन्होंने बताया कि कोहली जानते हैं कि उन्हें अपने खिलाड़ियों का कैसे बचाव करना है। उन्होंने कहा, “वह एक बेहतरीन कप्तान हैं। मुझे नहीं पता कि वह ड्रेसिंग रूम में क्या करते हैं और वह चतुराई से क्या करते हैं क्योंकि मैं टीम से बहुत दूर हूं। मुझे नहीं पता कि वह टीम मीटिंग में क्या बोलते हैं लेकिन जिस तरह से वह अपने खिलाड़ियों का ख्याल रखते हैं वह बेहतरीन है। मैं लगातार एमएस धोनी के बारे में बातचीत करता रहता हूं लेकिन जो मैं धोनी को लेकर विराट का अंदाज देखता हूं तो वह गजब है। धोनी एक चैंपियंन खिलाड़ी हैं, वह शायद अपने करियर के अंतिम पड़ाव में हैं, और विराट आकर कहते हैं कि वह उनके खिलाड़ी हैं और वह चाहते हैं कि वह खेलें। इस तरह से आप खिलाड़ी को मानसिक रूप से बदल देते हो।”

विराट कोहली की कप्तानी के बारे में बातचीत करते हुए गांगुली ने कहा उनकी कप्तानी में टीम इंडिया बेहतरीन बनती जा रही है। गांगुली ने कहा कि विराट कोहली टीम इंडिया के द्वारा पैदा किए गए सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों में से एक हैं। जिस तरह से कोहली परिस्थितियों को संभाल रहे हैं और मैदान पर अपना रवैया दिखा रहे हैं, वह बेहतरीन है।

कोलकाता टेस्ट: लंच तक भारत का स्कोर 74/5
कोलकाता टेस्ट: लंच तक भारत का स्कोर 74/5

बहरहाल, पूर्व कप्तान ने कहा कि कप्तान कोहली का असली टेस्ट तभी होगा जब वे विदेश का दौरा करेंगे। अगर वह विदेश में भी अपनी कप्तानी का जादू चलाने में सफल हो जाते हैं तो उनका आंकलन करने के लिए यही सबसे अच्छा पैरामीटर होगा।