Virat Kohli’s hunger makes India a winning contender: Viv Richards
Virat Kohli (Getty Images)

वेस्टइंडीज के दिग्गज बल्लेबाज विवियन रिचडर्स का मानना है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली की जीत की भूख मेहमान टीम को अभी भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली जा रही टेस्ट सीरीज में जीत का प्रबल दावेदार बनाती है। चार मैचों की टेस्ट सीरीज में भारत और ऑस्ट्रेलिया 1-1 से बराबर पर हैं। दोनों टीमों के बीच तीसरा मैच बॉक्सिंग डे यानि 26 दिसंबर से शुरू होगा।

रिचडर्स ने शुक्रवार को आईएएनएस से कहा, “भारत के पास सीरीज जीतने का शानदार मौका है। पर्थ में बेशक उन्हें हार मिली हो, लेकिन वो अभी जीत सकते हैं। उनके पास विराट जैसा कप्तान है। उनके अंदर जीतने की भूख है और अपने खिलाड़ियों को जीत के लिए प्रेरित करना वो जानते हैं।”

साथ ही वेस्टइंडीज के इस दिग्गज ने माना कि स्टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर के बिना भी आस्ट्रेलिया अपने घर में एक शानदार टीम है। रिचडर्स ने कहा, “मैं अभी भी भारत को जीत का प्रबल दावेदार मानता हूं, लेकिन किसी को भी ये नहीं भूलना चाहिए की ऑस्ट्रेलिया स्मिथ और वार्नर के अलावा भी शानदार टीम है। प्रतिभा में जो उनके पास नहीं है उसकी पूर्ति वो अपने नजरिए से कर रहे हैं।”

कोहली की हमेशा प्रशंसा करने वाले रिचडर्स ने कहा है कि भारतीय कप्तान को सर्वकालिक महान खिलाड़ियों में खड़ा करना जल्दबाजी होगी। इसके लिए अभी उनके करियर को खत्म होने का इंतजार करना होगा।

रिचडर्स ने कहा, “मौजूदा दौर के खिलाड़ियों में वो मेरे पसंदीदा हैं। मेरे कई पैमाने हैं। मुझे लगता है कि हमें उनके करियर के खत्म होने का इंतजार करना चाहिए। अभी हम इस बात की चर्चा करेंगे तो ये जल्दबाजी होगी, लेकिन निश्चित ही वो शानदार स्थिति में हैं।”

गावस्कर, तेंदुलकर के बाद कोहली भारतीय बल्लेबाजी के स्तंभ

सुनील गावस्कर को ‘गॉडफादर ऑफ इंडियन बैटमैनशिप (भारतीय बल्लेबाजी का भीष्म पितामाह)’ बताते हुए रिचडर्स ने कहा कि भारत भाग्यशाली रहा है कि उसने अलग-अलग पीढ़ी में कई शानदार बल्लेबाज निकाले। उन्होंने कहा, “भारत के पास शानदार बल्लेबाज रहे हैं, लेकिन जिसे रोल मोडल कहा जाए- सुनील गावस्कर भारतीय बल्लेबाजी का भीष्म पितामाह हैं। इसके बाद सचिन तेंदुलकर आते हैं और उनके बाद विराट कोहली हैं। भारत इन लोगों के साथ काफी खुश होगा।”
पर्थ टेस्ट में भारतीय कप्तान विराट और ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन के बीच हुई लड़ाई के बारे में पूछने पर रिचडर्स ने कहा कि भारतीय कप्तान ने लाइन क्रॉस नहीं की। वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान ने कहा, “मुझे नहीं लगता कि उन्होंने सीमा लांघी है। मुझे लगता है कि बीसीसीआई ने भी यही कहा है और मैं उनकी बात को ही दोहरा रहा हूं।”

रिचडर्स ने हमवतन ब्रायन लारा की भी तारीफ करते हुए कहा कि गैप ढूंढ़ने के मामले में लारा से बेहतर कोई बल्लेबाज नहीं है। उन्होंने कहा, “आज की क्रिकेट में, आपको विराट कोहली को देखना होगा और ब्रायन लारा को। मैं नहीं समझता कि लारा जिस तरह से गैप ढूंढ़ते थे उस तरह से कोई और बल्लेबाज कर सकता है। मेरे लिए ये बेहद खतरनाक है। वो बेशक छक्के नहीं मार पाएं लेकिन गैप निकाल कर पूर्ति करते थे। सचिन भी यही करते थे।”

रिचडर्स से जब सबसे मुश्किल गेंदबाज के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “भगवत चंद्रशेखर और डेनिस लिली इस सूची में पहले आते हैं। इनके अलावा भी काफी अच्छे गेंदबाज थे।”