Virender Sehwag: ‘5-day Test is like diaper, don’t change it unless redundant’
Virender Sehwag @ IANS

भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग ने टेस्ट मैच को पांच की जगह चार दिन का करने के प्रस्ताव पर अपने तरीके से कटाक्ष करते हुए कहा कि डायपर और टेस्ट क्रिकेट तभी बदलने चाहिए जब वे खराब हो।

बीसीसीआई पुरस्कार समारोह में रविवार को सहवाग ने ‘एमएके पटौदी स्मारक व्याख्यान’ में हिन्दी मुहावरों का इस्तेमाल करते हुए कहा कि खेल के सबसे लंबे प्रारूप में नयापन लाना दिन-रात्रि टेस्ट मैच तक सीमित रखना चाहिए। सहवाग ने अपने तरीके से कहा, ‘‘ चार दिन की चांदनी होती है, टेस्ट मैच नहीं…जल की मछली जल में अच्छी है, बाहर निकालों तो मर जाएगी।’’

पढ़ें:- रिषभ पंत ने उर्वशी रौतेला को WhatsApp पर किया BLOCK, जानें क्या है पूरा मामला

सहवाग ने पांच दिवसीय टेस्ट को रोमांस का तरीका करार देते हुए कहा कि इंतजार करना इस प्रारूप की खूबसूरती है।
उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने हमेशा बदलाव को स्वीकार किया है लेकिन पांच दिवसीय टेस्ट मैच एक रोमांस है जहां गेंदबाज बल्लेबाज को आउट करने के लिए योजना बनाता है, बल्लेबाज हर गेंद को कैसे मारूं यह सोचता है और स्लिप में खड़ा क्षेत्ररक्षक गेंद का ऐसे इंतजार करता है जैसे प्यार में खड़ा लड़का सामने से हां का इंतजार करता है, सारा दिन इंतजार करता है कि कब गेंद उसके हाथ में आयेगी और कब वो लपकेगा।’’

इस पूर्व सलामी बल्लेबाज ने हालांकि कहा कि टेस्ट क्रिकेट में थोड़ा नयापन जरूर आना चाहिए। ‘‘जर्सी के पीछे अंक लिखने का प्रयोग अपनी जगह ठीक है लेकिन डायपर और टेस्ट क्रिकेट तभी बदलने चाहिए जब वे खराब हो।”

पढ़ें:- ICC का फ्यूचर एक्‍शन प्‍लान, 16 नहीं बल्कि 20 टीमें होंगी T20 WC का हिस्‍सा !

“मुझे नहीं लगता कि टेस्ट क्रिकेट खराब है। इसलिए ज्यादा बदलाव की आवश्यकता नहीं है। मैं कहूंगा कि टेस्ट क्रिकेट 143 साल पुराना हट्टा-कट्टा आदमी है और आज की भारतीय टीम की तरह फिट है, उसमें एक आत्मा है और इस आत्मा की उम्र किसी भी कीमत पर छोटी नहीं होनी चाहिए। वैसे चार दिन की चांदनी होती है टेस्ट मैच नहीं।’’

उन्होंने कहा कि इस प्रारूप में लगातार नतीजे निकले हैं और ड्रॉ मैचों को देखते हुए प्रारूप में बदलाव नहीं किया जाना चाहिए। ‘‘टेस्ट क्रिकेट में पिछले 10-15 साल में ड्रॉ मैचों की संख्या काफी कम रही है। पिछले पांच साल में 31 टेस्ट ड्रॉ हुए जबकि 223 खेले गये हैं जो केवल 13 प्रतिशत है, यह हमारे जीडीपी से अधिक है। पिछले 10 साल में केवल 83 मैच ड्रॉ हुए है जबकि 433 मैच खेले गये है। ड्रॉ मैचों की संख्या 19 प्रतिशत है।’’