वीरेंद्र सहवाग © Getty Images
वीरेंद्र सहवाग © Getty Images

अपने जमाने के दिग्गज सलामी बल्लेबाज और भारत के पूर्व कप्तान वीरेंद्र सहवाग को एक बड़ी जिम्मेदार दी गई है। सहवाग और दिल्ली के पूर्व खिलाड़ी विनय लांबा को नाडा के डोपिंग रोधी अपील पैनल (एडीएपी) का सदस्य बनाया गया है। सहवाग और दिल्ली की तरफ से 1967 से 1981 के बीच 76 प्रथम श्रेणी मैच खेलने वाले लांबा उस छह सदस्यीय पैनल के सदस्य हैं जिसकी अगुवाई रिटायर्ड जज आर वी ईश्वर करेंगे। पैनल के अन्य सदस्यों में सीनियर एडवोकेट विभा दत्ता मखीजा, डा. नवीन डांग और हर्ष महाजन है।

सूत्रों के अनुसार पैनल की गुरुवार को दो घंटे तक बैठक चली लेकिन सहवाग उसमें हाजिर नहीं हुए। नाडा ने इसके अलावा डोपिंग की दोषी रही पूर्व वेटलिफ्टर कुंजारानी देवी को डोपिंग रोधी अनुशासन पैनल (एडीडीपी) के एक सदस्य के रूप में शामिल किया है। कुंजारानी को 2001 में डोपिंग में पकड़े जाने के कारण छह महीने के लिये प्रतिबंधित किया गया था। तब उन्हें दक्षिण कोरिया में एशिया चैंपियनशिप में शक्तिवर्धक दवा के सेवन का दोषी पाया गया था। अब वह अन्य सदस्यों के साथ यह फैसला करेंगी कि क्या कोई खिलाड़ी दोषी है या नहीं। एडीडीपी में कुंजारानी के अलावा अखिल कुमार (मुक्केबाजी), रीत अब्राहम (एथलेटिक्स), जगबीर सिंह (हाकी) और रोहित राजपाल (टेनिस) जैसे खिलाड़ी भी शामिल हैं।

श्रीलंका के खिलाफ संजू सैमसन करेंगे कप्तानी, एम एस धोनी पर लटकी 'तलवार'!
श्रीलंका के खिलाफ संजू सैमसन करेंगे कप्तानी, एम एस धोनी पर लटकी 'तलवार'!

एडीडीपी के अध्यक्ष सेवानिवृत जिला एवं सत्र जज कुलदीप सिंह होंगे। इसके अन्य सदस्यों में मानिक डोगरा, नलिन कोहली, बीना गुप्ता और सुरभि मेहता (सभी एडवोकेट), विनोद डोगरा, डा. अंकित शर्मा और डा. चेंगप्पा शामिल है।