पूर्व कप्‍तान माइकल क्‍लार्क (Michael Clarke) के एक बयान से ऑस्‍ट्रेलियाई क्रिकेट सर्कल में भूचाल आया हुआ है. हाल ही में क्‍लार्क ने कहा था कि भारत के बीच ऑस्‍ट्रेलियाई दौरे पर मेजबान टीम इसलिए शांत दिखी क्‍योंकि वो विराट कोहली (Virat Kohli) व अन्‍य भारतीय बल्‍लेबाजों के साथ दोस्‍ती को बनाए रखकर आईपीएल में कांट्रेक्‍ट पाना चाहते थे. इस मामले में अब पूर्व भरतीय बल्‍लेबाज वीवीएस लक्ष्‍मण (VVS Laxman) की प्रतिक्रिया भी सामने आई है.

वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) ने इस टिप्पणी की आलोचना करते हुए कहा कि विराट कोहली से अच्छे व्यवहार का मतलब यह नहीं है कि उस खिलाड़ी को इंडियन प्रीमियर लीग में स्थान मिल जायेगा.

भारत ने 2018-19 में किए ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर मेजबान टीम को पहली बार टेस्‍ट सीरीज में उनके घर पर 2-0 से मात दी थी. भारत ऐसा करने वाला पहला देश बना था. माइकल क्लार्क ने कहा था कि ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर अपने आईपीएल अनुबंधों को बचाने के लिये कोहली और उनके साथियों के खिलाफ छींटाकशी करते हुए डरते थे.

लक्ष्मण (VVS Laxman) आईपीएल टीम सनराइजर्स हैदराबाद के मेंटोर हैं, उन्होंने स्टार स्पोर्ट्स के शो में कहा, ‘‘अगर आप किसी से अच्छा व्यवहार करते हो तो, इसका मतलब यह नहीं कि आपको आईपीएल में जगह मिल जायेगी.’’

उन्होंने कहा, ‘‘कोई भी फ्रेंचाइजी खिलाड़ी की काबिलियत देखेगी जो उनकी टीम के लिये फायदेमंद हो जिससे उन्हें मैच या टूर्नामेंट जीतने के नतीजे मिलें. ऐसे ही खिलाड़ियों को आईपीएल अनुबंध मिलता है. इसलिये किसी से अच्छा व्यवहार आपको आईपीएल में जगह नहीं दिला सकता. ’’

वीवीएस लक्ष्‍मण (VVS Laxman) ने कहा, ‘‘अगर आप किसी खिलाड़ी के साथ अच्छी तरह घुल मिल रहे हो तो इसका मतलब यह नहीं है कि आपको आईपीएल अनुबंध मिल जायेगा. मेंटर होने के नाते जब मैं नीलामी के दौरान बैठता हूं तो हम ऐसे अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को चुनते हैं जिन्होंने अपने देश के लिये बेहतरीन खेल दिखाया हो जिससे फ्रेंचाइजी मजबूत हो सके.’’